# मुख्यमंत्री सीएम शिवराज सिंह का हुआ आगमन ##

Post 5

…तो कांग्रेस को बड़ा झटका देने आ रहे हैं ज्योतिरादित्य सिंधिया?

Post 1
 
हाइलाइट्स:
  • उपचुनाव से पहले कांग्रेस को बीजेपी ने दिए हैं कई झटके
  • 1 जून को ज्योतिरादित्य सिंधिया आ रहे हैं भोपाल
  • पूर्व मंत्री का दावा, कांग्रेस को लगेगा बड़ा झटका
  • सिंधिया के दौरे से पहले शिवराज कैबिनेट को लेकर हलचल तेज

भोपाल
बीजेपी ज्वाइन करने के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया एमपी एक बार आए हैं। एमपी बीजेपी के नेताओं से मुलाकात और राज्यसभा चुनाव के लिए नामांकन दाखिल करने के बाद वह दिल्ली लौट गए थे। कोरोना महामारी के बीच वह दिल्ली से ही फोन और सोशल मीडिया के जरिए लोगों की मदद पहुंचा रहे हैं। सिंधिया समर्थकों के अनुसार 1 जून को ज्योतिरादित्य सिंधिया भोपाल आ रहे हैं।

सिंधिया समर्थक पूर्व महेंद्र सिंह सिसोदिया ने एक न्यूज चैनल से बात करते पुष्टि की है कि महाराज भोपाल आ रहे हैं। सिंधिया के आने से पहले ही कांग्रेस को ताबड़तोड़ झटके लग रहे हैं। 2 दिन में 200 से ज्यादा कांग्रेस नेता पार्टी छोड़ कर बीजेपी में शामिल हुए हैं। पूर्व मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया ने दावा किया है कि अभी तो यह शुरुआत है।

सिंधिया के सामने कई बड़े नेता थामेंगे दामन
सिंधिया के दौरे से पहले चर्चा है कि उनके आने के बाद कांग्रेस के कई बड़े नेता बीजेपी में शामिल होंगे। कांग्रेस के पूर्व विधायकों से लेकर कई जिलाध्यक्ष बीजेपी का दामन थाम सकते हैं। ज्योतिरादित्य सिंधिया के दौरे से पहले कांग्रेस में खलबली मची हुई है। कांग्रेस ने ज्योतिरादित्य सिंधिया के प्रभाव वाले इलाकों में पार्टी की कार्यकारिणी भंग कर दी है। क्योंकि पार्टी को पता है कि टूट उनके प्रभाव वाले इलाके में ही ज्यादा होगी।

मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर हलचल तेज
ज्योतिरादित्य सिंधिया को लेकर दूसरी चर्चा यह भी है कि इस बार वह शिवराज कैबिनेट के विस्तार के दौरान मौजूद रहेंगे। कयास लगाए जा रहे हैं कि जल्द ही शिवराज कैबिनेट का विस्तार होगा। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को भी राज्यपाल लालजी टंडन से मुलाकात की है। दिल्ली से नामों में पर मुहर लगने के बाद कैबिनेट विस्तार की तैयारी शुरू हो जाएगी। सिंधिया खेमे के 7 से 8 लोगों को कैबिनेट में जगह मिल सकती है।

उपचुनाव में चेहरा कौन
वहीं, 24 सीटों पर उपचुनाव को लेकर भी बीजेपी में हलचल तेज हो गई है। पार्टी के आला नेता लगातार रणनीति बनाने में जुटे हैं। रविवार को सिंधिया खेमे के पूर्व विधायक के बयान से राजनीति गरमा गई है। करेरा से पूर्व विधायक जसवंत जाटव ने मांग की है कि उपचुनाव में पार्टी का चेहरा ज्योतिरादित्य सिंधिया ही रहें। हालांकि उनकी इस मांग पर बीजेपी की कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।
Post 4
Post 2
Post 3

Leave A Reply

Your email address will not be published.

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- +919424776498

फर्जी बिल लगाने के बादशाह निकले…….गुप्ता     |     सी.एम. हेल्पलाइन की लंबित शिकायतों का निराकरण ना करने वाले अफसरों का वेतन आहरण नहीं होगा@अनिल दुबे9424776498     |     प्रक्रिया का पालन करें पंचायतें, टेंडर से हो खरीदी फर्जी बिल पर लगेगा अंकुश…….यदुवंश दुबे ने व्यक्त किये अपने विचार@आसुतोष सिंह     |     बस वाहन चालक यात्रियों के जेब मे डाल रहे डाका ( वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से )     |     पशु चिकित्सालय के अस्तित्व पर खतरा ( वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से )     |     बिना कनेक्शन पहुंचा बिजली बिल, आश्रम को लगा करेंट का झटका (वरिस्ट पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से)     |     पुष्पराजगढ़ विधायक फुंदेलाल मार्को द्वारा दसवें उप स्वास्थ्य केंद्र भवन का किया भूमि पूजन ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |     जनपद पंचायत पुष्पराजगढ़ मे समीक्षा बैठक का हुआ आयोजन ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |     पटना लांघाटोला से करपा जाने वाली रोड का कब होगा कायाकल्प ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |     शिशु मृत्यु दर मे कमी लाने समीक्षा बैठक हुई संपन्न ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |