# मुख्यमंत्री सीएम शिवराज सिंह का हुआ आगमन ##

Post 5

7 करोड़ 15 लाख 80 हजार 670 की वसूली कर दर्ज कराये एफआईआर (आशुतोष सिंह की रिपोर्ट)

Post 1

मामला म.प्र. स्टेट सिविल सप्लाई कॉर्पोरेशन अनूपपुर के सजहा गोदाम का…

इन्ट्रो- जिले के म.प्र. वेयर हाउसिंग कॉर्पोरेशन की शाखा गोदामों मे जमकर भ्रष्टाचार किया गया है जो अब प्रमाणित होता जा रहा है। वर्ष 2011 से 2016 तक सजहा गोदाम मे हुई गडबड़ियों की शिकायत जब उक्त विभाग के प्रबंधक संचालक भोपाल के पास पहुंची तब उनके द्वारा कराई गई जांच मे गड़बड़ी होना पाया गया। प्रबंधक संचालक अभिजीत अग्रवाल द्वारा अपने पत्र क्रमांक 1/19573/2 दिनांक 26.05.2020 को आदेश जारी कर आरोपियों के विरुद्ध एफआईआर दर्ज कर खुर्दबुर्द किये गये आनाज से हुई आर्थिक क्षति की वसूली का आदेश क्षेत्रीय प्रबंधक रवि सिंह को दिया गया किन्तु आज दिनांक तक न तो वसूली हो पाई और न ही अपराध पंजीबद्ध हो सका है ……?

Post 2

अनूपपुर।

जिले के सजहा गोदाम मे हुई गड़बड़ी के संबध मे खाद्य संचालनालय न अपने आदेश क्रमांक 6915/खाद्य/2017 दिनांक 13.11.2017 जिले के म.प्र. वेयरहाउसिंग एवं लाॅजिस्टिक्स कॉर्पोरेशन के गोदामों मे जमा धान/चावल के संबध मे विस्तृत रिपोर्ट देने के लिये एक समिति का गठन किया गया जिसने जांच उपरान्त 22.11.2017 को अपना प्रतिवेदन प्रस्तुत किया। संचालनालय के आदेश क्रमांक 4494 दिनांक 06.07.2018 से अनूपपुर जिले मे वेयरहाउस के गोदामों मे जमा धान चावल संबधी दस्तावेजों के परीक्षण हेतु म.प्र. स्टेट सिविल सप्लाई कॉर्पोरेशन के लेखा संवर्ग अधिकारियों से जांच कराई गई जिन्होने अपना जांच प्रतिवेदन 03.06.2019 को दिया है। साथ ही एमपीडब्ल्यूएलसी के विभागीय अधिकारियों द्वारा उक्त प्रकरण मे जांच कर प्रतिवेदन प्रस्तुत किया गया है। समस्त जांचों मे शाखा प्रबंधक केन्द्र प्रभारी राईस मिलर व ट्रान्सपोटर को चावल के गबन का दोषी पाया गया है। दोषी पाये जाने के उपरान्त प्रबंधक संचालक ने 7 करोड़ 15 लाख 80 हजार 670 की वसूली कर सेवा से पृथक व एफआईआर दर्ज कराने का आदेश जारी किया है।

यह है मामला

जिले के किसी भी राईस मिल द्वारा उठाई गई धान एवं जमा सीएमआर की ट्रकवार जानकारी उपलब्ध नही कराई गई ना ही राईस मिलरों द्वारा धान मिलिंग एवं परिवहन के देयक प्रस्तुत नही किये गये जिससे स्पष्ट होता है कि जबलपुर मे मार्कफेड द्वारा प्रदाय की जाने वाली धान का उठाव करने के पश्चात् परिवहन कर अनुपपुर राईस मिलों मे नही लाया गया। जबलुपुर से धान का परिवहन नही होने से सीएमआर चावल भी एमपीडब्ल्यूएलसी के गोदामों मे भण्डारित नही किया गया जिसके कूटरचित दस्तावेज, स्वीकृत पत्रक, गुणवत्ता पत्रक, तौल पत्रक, डब्ल्यूएचआर आदि तात्कालीन शाखा प्रबंधक वाय. पी. त्रिपाठी एवं केन्द्र प्रभारी रज्जू कोल द्वारा राईस मिलरों के साथ सांठ गांठ कर तैयार किये गये। फर्जी डब्ल्यूएचआर बनाई गई व डब्ल्यूएचआर को डिलीट भी कराया गया साथ ही फर्जी दस्तावेज के आधार पर परिवहन होना बताया गया है। वित्तीय वर्ष 2015-2016 मे सजहा गोदाम से एलआरटी के माध्यम से केन्द्र अनूपपुर, कोतमा एवं राजेन्द्रग्राम किया गया जिसमे ट्रक क्रमांक एमपी18 जीए1131, एमपी18 जीए5568, एमपी18जीए2649 कुल 765.78 क्विंटल चावल राजेन्द्रग्राम नही पहुंचा जिससे सीधे तौर पर 22,20,762 रुपये की आर्थिक गड़बड़ी का परिवहन कर्ता दोषी पाया गया।

कब होगी कार्यवाही

म.प्र. शासन खाद्य विभाग भोपाल द्वारा अपने संदर्भित पत्र क्रमांक 2404 दिनांक 26.09.2019 द्वारा लेख किया गया कि अनूपपुर जिले मे कूटरचित दस्तावेजों से 22573.12 चावल का गबन किया गया जिससे शासन को 6,04,08,826 रुपये की आर्थिक क्षति होना पाया गया जिसकी वसूली तात्कालीन केन्द्र प्रभारी रज्जू कौल एवं शाखा प्रबंधक वाईपी त्रिपाठी के साथ राईस मिलरों से की जाये दोनो ही प्रभारियों को सेवा से पृथक किये जाने हेतु अनुशासनात्मक कार्यवाही के आदेश दिये है व शासन के निर्देशानुसार निरीक्षण एवं भौतिक सत्यापन करने के दोषी कारपोरेशन के संबधित अधिकारी कर्मचारियों के विरुद्ध एफआईआर दर्ज कराने की बात कही गई है। पूर्व मे प्रबंधक संचालक भोपाल द्वारा सजहा गोदाम के संबध मे क्षेत्रीय प्रबंधक सतना को पत्र क्रमांक 27/2019 दिनांक 06.12.2019 पत्र क्रमांक 1537 दिनांक 27.01.2020 पत्र क्रमांक 1601 दिनांक 07.07.2020 पत्र क्रमांक 1764 दिनांक 12.03.2020 लिखे जा चुके है लेकिन आज दिनांक तक दोषियों पर कार्यवाही का न होना बहुत कुछ बयां करता है।

इन पर दर्ज होना है आपराधिक मामला

तात्कालिक समय जिन राईस मिलों को धान से चावल बनाने का कार्य शासन द्वारा दिया गया था उन्होने भी भ्रष्टाचार की गंगा मे डुबकी लगाने से गुरहेज नही किया जिसका नतीजा गबन की राशि की वसूली के साथ आपराधिक मामले दर्ज होने तक पहुंच चुका है तब संबधित मिलर्स आईसा राईस मिल मनेन्द्रगढ, अमित राईस मिल अमलाई, अमीना राईस मिल खोडरी, पाकीजा राईस मिल केल्हारी, आयशा राईस मिल खोडरी, बाल गोविन्द राईस मिल अनूपपुर व तत्कालीन परिवहनकर्ता मोहम्मद जकरिया एलाटी ट्रान्सपोटर व केन्द्र प्रभारी रज्जू कोल शाखा प्रबंधक वाय.पी. त्रिपाठी के साथ शासन के निर्देशों अनुरुप भौतिक सत्यापन न करने के दोषी एमपीडब्ल्यूएलसी व एमपीएससीएससी के विरुद्ध विभागीय अनुशासनात्मक कार्यवाही की जाये।

गबन की मात्रा वसूली की राशि

दस्तावेजों के जांच उपरान्त जहां शाखा प्रबंधक व केन्द्र प्रभारी को 22573.12 क्विंटल चावल जिसकी राशि 60408820 को गबन करने का आरोपी पाया गया है वहीं एलाटी ट्रास्पोटर मोहम्मद जकरिया को 765.78 क्विंटल चावल जिसकी राशि 2220762 का हेराफेरी करने का आरोप सिद्ध हुआ है साथ ही परिवहन कर्ता ने उक्त चावल का परिवहन किये बगैर 33977 रुपये का भुगतान भी तात्कालीन जिला प्रबंधक से प्राप्त कर चुका है जिसके लिये सप्लाई कॉर्पोरेशन उत्तरदायी है। निरीक्षण के दौरान अधिकारियों ने पाया कि दस्तावेजों मे कई प्रकार की गडबड़िया सामने आ रही है कहीं टीसी अमित राईस मिल तो तौल पत्रक कृष्णा राईस मिल का लगा हुआ है। कहीं रिसीव डिलीट कराई गई है तो कहीं पर तौल पत्रक की काटछांट या ओवरराईटिंग की गई है। कुल मिलाकर सभी को समायोजित कर 71580669 की आर्थिक क्षति एमपीएससीएससी को पहुंचाना पाया गया है।

इनका कहना है

हमारे द्वारा एफआईआर संबघी दस्तावेज अनूपपुर थाना मे जमा कराये गये है जिसकी एक काॅपी जिला पुलिस कप्तान को भी उपलब्ध कराई गई है किन्तु वर्तमान मे पुलिस द्वारा क्या संज्ञान लिया गया वह हमे ज्ञात नही है।
रवि सिंह
क्षेत्रीय प्रबंधक सतना
म.प्र. स्टेट सिविल सप्लाईज कारपोरेशन लिमिटेड

मेरे संज्ञान मे यह मामला नही आया है यदि पूरे दस्तावेज के साथ प्राथमिकी दर्ज कराई जाये तब अवश्य ही कानून सम्मत कार्यवाही की जायेगी।
अनूपपुर कोतवाली प्रभारी
नरेन्द्र पाल

Post 4
Post 2
Post 3

Leave A Reply

Your email address will not be published.

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- +919424776498

फर्जी बिल लगाने के बादशाह निकले…….गुप्ता     |     सी.एम. हेल्पलाइन की लंबित शिकायतों का निराकरण ना करने वाले अफसरों का वेतन आहरण नहीं होगा@अनिल दुबे9424776498     |     प्रक्रिया का पालन करें पंचायतें, टेंडर से हो खरीदी फर्जी बिल पर लगेगा अंकुश…….यदुवंश दुबे ने व्यक्त किये अपने विचार@आसुतोष सिंह     |     बस वाहन चालक यात्रियों के जेब मे डाल रहे डाका ( वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से )     |     पशु चिकित्सालय के अस्तित्व पर खतरा ( वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से )     |     बिना कनेक्शन पहुंचा बिजली बिल, आश्रम को लगा करेंट का झटका (वरिस्ट पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से)     |     पुष्पराजगढ़ विधायक फुंदेलाल मार्को द्वारा दसवें उप स्वास्थ्य केंद्र भवन का किया भूमि पूजन ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |     जनपद पंचायत पुष्पराजगढ़ मे समीक्षा बैठक का हुआ आयोजन ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |     पटना लांघाटोला से करपा जाने वाली रोड का कब होगा कायाकल्प ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |     शिशु मृत्यु दर मे कमी लाने समीक्षा बैठक हुई संपन्न ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |