# मुख्यमंत्री सीएम शिवराज सिंह का हुआ आगमन ##

Post 5

जनपद पंचायत पुष्पराजगढ़ मे बगैर जीएसटी भुगतान के लगा रहे वेन्डर बिल @वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से……

Post 1

राजेन्द्रग्राम।

मिली जानकारी अनुसार जनपद पंचायत पुष्पराजगढ़ जिला अनुपपुर की जनपद है जहां ग्राम पंचायतों की कुल संख्या 119 है। जिन पंचायतों मे मनरेगा एवं पंच परमेश्वर एवं शासन की जन कल्याण कारी योजना संचालित है। इन योजनाओं से ग्राम पंचायतों मे विभिन्न कार्य जैसे भवन निर्माण, सीसी रोड निर्माण, व मुक्ति धाम निर्माण आदि कार्य कराये जाते है। इन सभी कार्यो के लिये पंचायत को रेत, गिट्टी, सीमेंट, राॅड आदि की आवस्यकता पड़ती है। उपरोक्त सामग्री पंचायत को विभिन्न फर्जी ट्रेडर्स बनकर बगैर जीएसटी भुगतान के वेंडर पंचायतों को बिल सौंपकर राशि की निकासी करवा लेते है किन्तु उपरोक्त वेन्डरों के द्वारा जीएसटी भुगतान नही किया जाता और न ही कोई जीएसटी भुगतान की प्रति वेन्डरों द्वारा दी जाती है। इन वेन्डरों द्वारा पंचायतों को सौंपे गये बिल बाउचर के अनुसार अंकित सामग्री कहां से और किस दुकान से प्राप्त हुई है जैसी प्राप्ति रसीद प्रमाणित नही मिलती है। तत्पश्चात बड़े ही धड़ल्ले से उन वेन्डरों का बिल पास होकर राशि प्राप्त की जा रही है। बगैर जीएसटी भुगतान वेन्डरों के द्वारा न करने से शासन को पुष्पराजगढ़ जनपद पंचायत एवं पंचायतों मे बिल खंगाले जाये तो शासन की करोणों रुपये की चोरी वेन्डरों द्वारा किया जाना उजागर हो सकेगी।
Post 2
जीएसटी भुगतान की हो जांच
बताया जाता है कि पुष्पराजगढ़ मुख्यालय मे कई ऐसे रजिस्टर्ड व्यापारी है जिनके यहां लोहा, सीमेंट आदि के साथ रेत ढुलाई, गिट्टी ढुलाई आदि के पक्के बिल जीएसटी भुगतान किया जाता है किन्तु उपरोक्त ये वेन्डर गुपचुप फर्जी बिलों की राशि प्राप्त कर शासन को चूना लगाने को कोई कसर नही छोड़े है। पुष्पराजगढ़ मुख्यालय के 119 पंचायतों मे वेन्डरों के द्वारा सौंपे गये बिलों की निष्पक्ष जांच की जावे तो शासन की लाखों रुपये की राशि चोरी करने का परदा फास हो सकेगा। जहां हजारों की तादाद मे ऐसे वेन्डरों के बिल बाउचर पंचायतों मे उपलब्ध होंगें वहीं संबधित जीएसटी विभाग वेन्डरों द्वारा एक बार जीएसटी नंबर प्राप्त कर बगैर नवीनीकरण कराये निरंतर भुगतान प्राप्त कर शासन के टैक्स की चोरी की जाकर अपना उल्लू सीधा किया जा रहा है वहीं संबधित विभाग पता नही क्यूं किन परिस्थितियों मे अपनी आंख कान मूंदकर चुप्पी साधे मौन व्रत धारण कर लिया है इन्ही कारणों से वेन्डर दिन दुगनी और रात चैगनी अकंटक राज कर रहे है। इतना ही नही पुष्पराजगढ़ जनपद पंचायत क्षेत्र मे लगभग 40 से 45 क्रेशर संचालित है और बेहिचक निडर होकर पंचायतों को विभिन्न निर्माण कार्यों को निर्माण कराने हेतु गिट्टी आदि की सप्लाई की गई है। जिसके माध्यम से हजारों लाखों रुपये का लेन देन किया गया है किन्तु शासन की जीएसटी भुगतान नही किया गया। जो शासन के नियम के विपरीत है ऐसे संचालित क्रेसरों के द्वारा प्रदाय की गई पंचायतों के लिये सामग्री की जांच न किया जाना प्रशसंतंत्र के घोर लापरवाही का धोतक है।

पंचायतों मे बगैर निविदा बुलाये खरीदी गई सामग्री

पुष्पराजगढ़ जनपद पंचायत मे जहां 119 पंचायते अपने अस्तित्व मे आकर संचालित है जिनके द्वारा बगैर निविदा बुलाये उपरोक्त सामानों की खरीदी किया जाना घोर लापरवाही एवं अकर्मडता का सूचक है तथा पंचायत अधिनियम के विपरीत बगैर निविदा बुलाये किसी भी सामग्री की खरीदी करना अपराध की श्रेणी मे आता है। फिर भी वेन्डरों से बिल बाउचर प्राप्त करना इस तरह के वेन्डरों का हजारों की तादाद मे उदय हो जाना आम बात हो गई है जिसके कारण ये वेन्डर अपने परिवार, भाई, पत्नी, रिस्तेदार के फर्जी बिल सौंपकर शासन के टैक्स की निरंतर चोरी कर रहे है। जांच कार्यवाही करने जीएसटी विभाग की चुप्पी मौन व्रत संदेह के घेरे की ओर इंगित करता है। जिसके कारण ऐसे कर चोरी करने वालों के हौंसले बुलंद है।

निकासी बंद पर भी लगे रेत के बिल

इतना ही नही जिला कलेक्टर अनूपपुर ही नही अपितु पूरे म.प्र. मे माह 15 जून से नदियों की रेत निकासी को बंद कर दिया गया था। बावजूद भी जनपद पंचायत पुष्पराजगढ़ की पंचायतों मे रेत निकासी बंद के बाद जीएसटी चोरी करने वाले वेन्डर एवं वाहन चालक मालिक पंचायतों के निर्माण कार्य के लिये रेत निकासी माह 15 जून से माह अक्टूबर तक बंद रहने के बाद पंचायतों मे पक्के कार्य एवं भवन निर्माण य अन्य शौचालय आदि कार्य के लिये रेत बिल, प्रदाय का बिल प्रस्तुत कर राशि प्राप्त करना एक सोचनीय प्रश्न है जो किसी भी पंचायत में देखा जा सकता है। उल्लेखनीय है कि अनूपपुर जिले की जनपद पंचायत पुष्पराजगढ़ के 119 पंचायतों मे हजारों की तादाद मे उदय हुये वेंडरों की शासन के नियमानुंसार साथ संचालित क्रेशरों की जीएसटी विभाग जांच करे तो मुख्यालय के साथ पुष्पराजगढ़ मे हजारों की तादाद मे फर्जी वेन्डरों का पर्दा फास होकर शासन को लाखो करोडों रुपये की राशि प्राप्त हो सकेगी। अब देखना यह है कि शासन का जीएसटी विभाग जिला अनूपपुर की जनपद पंचायत पुष्पराजगढ़ के 119 पंचायतों मे उपरोक्त वेन्डरोे के बिलों की जांच कितनी सक्रियता तत्परता से करता है जिसकी प्रतीक्षा है।
Post 4
Post 2
Post 3

Leave A Reply

Your email address will not be published.

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- +919424776498

फर्जी बिल लगाने के बादशाह निकले…….गुप्ता     |     सी.एम. हेल्पलाइन की लंबित शिकायतों का निराकरण ना करने वाले अफसरों का वेतन आहरण नहीं होगा@अनिल दुबे9424776498     |     प्रक्रिया का पालन करें पंचायतें, टेंडर से हो खरीदी फर्जी बिल पर लगेगा अंकुश…….यदुवंश दुबे ने व्यक्त किये अपने विचार@आसुतोष सिंह     |     बस वाहन चालक यात्रियों के जेब मे डाल रहे डाका ( वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से )     |     पशु चिकित्सालय के अस्तित्व पर खतरा ( वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से )     |     बिना कनेक्शन पहुंचा बिजली बिल, आश्रम को लगा करेंट का झटका (वरिस्ट पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से)     |     पुष्पराजगढ़ विधायक फुंदेलाल मार्को द्वारा दसवें उप स्वास्थ्य केंद्र भवन का किया भूमि पूजन ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |     जनपद पंचायत पुष्पराजगढ़ मे समीक्षा बैठक का हुआ आयोजन ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |     पटना लांघाटोला से करपा जाने वाली रोड का कब होगा कायाकल्प ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |     शिशु मृत्यु दर मे कमी लाने समीक्षा बैठक हुई संपन्न ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |