# मुख्यमंत्री सीएम शिवराज सिंह का हुआ आगमन ##

Post 5

नौकरी के नाम पर पट्टे की भूमि तो ले लिया फिर नौकरी से निकाल दिया @ वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम

Post 1

मामला चचांडीह (गढ़ीदादर) बाक्साईड खदान प्रबंधन का

राजेन्द्रग्राम।

प्राप्त जानकारी अनुसार 10-15 वर्ष पूर्व जिला कटनी के पवन मित्तल नाम की कंपनी ग्राम चचांडीह (गढ़ीदादर) तहशील पुष्पराजगढ़ जिला अनूपपुर म.प्र मे बाक्साईड खदान का कार्य प्रारंभ किया गया। जहां पट्टे दारों की जमीन को लेकर बाक्साईड खदान खोली गई इस शर्त पर कि पट्टेदार कृषकों के घर के एक व्यक्ति को जिस किसी की भूमि बाक्साईड खदान मे ली जायेगी उसे मुआवजा देने के साथ नौकरी दी जावेगी। यह सिलसिला कंपनी के ठेकेदार पवन मित्तल के प्रबंधन ने चचांडीह (गढ़ीदादर) मे नियम लागू किया एवं कृषक पट्टे दारों के एक व्यक्ति को खदान मे कार्य करने को नौकरी का नाम दिया जो चैकीदार, ड्राईवर, मेट, मुंशी आदि के नाम से लोगों को बाक्साईड खदान मे रखा गया। जब खदान से बाक्साईड श्रमिकों द्वारा निकलने लगी तब पवन मित्तल कंपनी के प्रबंधन ने श्रमिकों के भुगतान का नियम बनाया जाकर कम भुगतान कंपनी को अधिक लाभ कमाने की जिज्ञासायें बढ़ने लगी वहीं कंपनी के प्रबंधन ने चचांडीह (गढ़ीदादर) गांव के लोगों को शनैः शनैः खदान के कार्य मे लापरवाही बताकर उन्हे निकालना प्रारंभ किया गया। जहां चचांडीह (गढ़ीदादर) के कृषक नौकरी के लालच मे अपने पट्टे की भूमि भी खो दिये और बाक्साईड खदान के कार्य से भी निकाल दिये गये।
यहां हम बता दे कि चचांडीह (गढ़ीदादर) के विजय यादव पिता नानसाय, अजय कुमार पिता तीरथ प्रसाद, राजेश यादव पिता मुन्ना यादव सभी निवासी गढीदादर जो वर्ष 2007 से 2009 तक तथा 2009 से 11 तक बाक्साईड खदान मे चैकीदार, ड्राइवर, कंडेक्टर, मुंशी, मेट आदि पर कार्य करते रहे हैं जिन्हे वेतन के नाम पर 100 रुपये प्रतिदिन के हिसाब से 3000 रुपये मासिक वह भी छुट्टी के दिन काटकर राशि मजदूरी के नाम पर दी जाती रही है।

 

Post 2

उपरोक्त श्रमिकों की 07 एकड़ जमीन जिसका खसरा नं 07 बताया गया है मित्तल कंपनी के प्रबंधन ने 07 एकड़ जमीन का मुआवजा औने पौनेे दाम देकर जमीन तो खदान के लिये ले ली गई वहीं वर्ष 2007 से 09 एवं वर्ष 2009 से 12 तक काम मे लगाकर फिर उपरोक्त जनों को बगैर कारण खदान के बाहर का रास्ता दिखा दिया गया।
इस संबध मे दिनांक 12.12.2020 को पीड़ित गरीब किसान चचांडीह (गढ़ीदादर) निवासी द्वारा खदान से निकाले जाने की एवं पुनः खदान मे काम देने का निवेदन शहडोल सांसद हिमाद्री सिंह मरावी से आवेदन पत्र प्रस्तुत किया है।

इनका कहना है

मैं 2011 में यहाँ आया हु और बिना कारण किसी को नही निकाला जाता।

अजीत कुमार खदान प्रबंधन
चचांडीह (गढ़ीदादर)

 

Post 4
Post 2
Post 3

Leave A Reply

Your email address will not be published.

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- +919424776498

फर्जी बिल लगाने के बादशाह निकले…….गुप्ता     |     सी.एम. हेल्पलाइन की लंबित शिकायतों का निराकरण ना करने वाले अफसरों का वेतन आहरण नहीं होगा@अनिल दुबे9424776498     |     प्रक्रिया का पालन करें पंचायतें, टेंडर से हो खरीदी फर्जी बिल पर लगेगा अंकुश…….यदुवंश दुबे ने व्यक्त किये अपने विचार@आसुतोष सिंह     |     बस वाहन चालक यात्रियों के जेब मे डाल रहे डाका ( वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से )     |     पशु चिकित्सालय के अस्तित्व पर खतरा ( वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से )     |     बिना कनेक्शन पहुंचा बिजली बिल, आश्रम को लगा करेंट का झटका (वरिस्ट पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से)     |     पुष्पराजगढ़ विधायक फुंदेलाल मार्को द्वारा दसवें उप स्वास्थ्य केंद्र भवन का किया भूमि पूजन ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |     जनपद पंचायत पुष्पराजगढ़ मे समीक्षा बैठक का हुआ आयोजन ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |     पटना लांघाटोला से करपा जाने वाली रोड का कब होगा कायाकल्प ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |     शिशु मृत्यु दर मे कमी लाने समीक्षा बैठक हुई संपन्न ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |