# भारत में रिकार्ड ; एक ही दिन में मिले 26000 हजार से ज्यादा मामले ## भारत में कोरोना का कुल आकड़ा 822,603 # वहीँ 516,206 मरीज ठीक हुए,तो वहीँ 22,144 लोगों की हुई मौत # # भारत विश्व में कोरोना के चपेट में पंहुचा तीसरे नंबर पर ये बढ़ता आकड़ा, डराने वाला है # वही रिकवर मरीजों की संख्या भारत में बेहतर ##

Post 5

नतीजो से पहले शिवराज कैबिनेट की बैठक, कांग्रेस ने जताई आपत्ति

Post 1

भोपाल। 

मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव होने के बाद अब सरकार एक बार फिर कामकाज के मूड में दिखाई दे रही है,चुनाव नतीजे 11 दिंसबर को आना हैं  उससे पहले सीएम शिवराज सिंह चौहान ने पांच दिसंबर को कैबिनेट बैठक बुलाई है इसकी सूचना सभी मंत्रियोंं को भेज दी गई है प्रदेश में आचार संहिता लागू है। ऐसे में सरकार कैबिनेट बैठक में किसी भी तरह के वित्तीय और नीतिगत फैसले नहीं ले सकेगी। इस बैठक में उन फैसलों पर कैबिनेट की मुहर लगना है जो पूर्व में पास हो चुके हैं लेकिन चुनाव की वजह से रुक गए थे  इस बीच कांग्रेस ने कैबिनेट बैठक बुलाने पर आपत्ति दर्ज कराते हुए चुनाव आयोग से इस पर रोक लगाने की मांग की है।

जानकारी के अनुसार पांच दिसंबर को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कैबिनेट बैठक बुलाई है। इसमें पूर्व में रूक करीब 14 प्रस्तावों पर कैबिनेट से अनुसमर्थन होना है हालांकि, कांग्रेस ने हमला करते हुए सरकार पर सत्ता का दुरुपयोग करने का आरोप लगाया है कांग्रेस का कहना है कि प्रदेश में मतदान हो चुका है आचार संहिता पहले से लागू है ऐसे में सरकार सिर्फ कार्यवाहक सरकार है इसके पास किसी भी तरह की बैठक बुलाने और निर्णय लेने का अधिकार नहीं है अगर ऐसा किया जा रहा है तो यह सीधे तौर पर सत्ता का दुरुपयोग है।

Post 2

दरअसल, राज्य सरकार पहले जिन 14 विषयों पर काम शुरू कर चुकी है उनका अनुसमर्थन अभी तक कैबिनेट से नहीं हो पाया है आचार संहिता लागू होने के बाद कैबिनेट की बैठक नहीं हो पाई। जिसके चलते इन विषयों पर कैबिनेट में चर्चा नहीं हो पाई और कैबिनेट का अनुसमर्थन नहीं मिल पाया इनमें अध्यापक संवर्ग के लिए जारी हुए आदेश, किसानों के लिए 200 रुपए बोनस सहित कुल 14 मामले हैं इसके अलावा डेंगू और जीका वायरस को लेकर भी बैठक में चर्चा होना है लेकिन राज्य सरकार को इससे पहले चुनाव आयोग से इस संबंध में अनुमति लेना होगी लेकिन बैठक के लिए सभी मंत्रियों को मुख्य सचिव की ओर से पांच दिसंबर को सुबह साढ़े दस बजे की सूचना भेज दी गई है। लेकिर चुनाव आयोग से अनुमति लेने के लिए कोई प्रस्ताव नहीं भेजा गया है।

दिल्ली से मिलेगी अनुमति

मुख्य निर्वाचन अधिकारी वीएल काताराव का कहना है कि सरकार बनने से पहले कैबिनेट के लिए चुनाव आयोग की अनुमति जरूरी है अभी तक हमारे पास इस संबंध में कोई प्रस्ताव नहीं मिला है राज्य सरकार कोई प्रस्ताव बैठक से संबंधित भेजती है तो उसे दिल्ली भारत निर्वाचन आयोग के पास भेजा जाएगा। वहीं से अनुमति मिलने पर बैठक हो सकती है।

Post 4
Post 2
Post 3

Leave A Reply

Your email address will not be published.

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- +919424776498

सचिव रोजगार सहायक और सरपंच की मिलीभगत से पंचायत का हुआ बंटाधार (अनिल दुबे की रिपोर्ट)     |     ग्राम पंचायत जीलंग सचिव, रोजगार सहायक हितग्राहियों से प्रधानमंत्री आवास का लाभ दिलाने के नाम पर कर रहे है अवैध वसूली -(पूरन चंदेल की रिपोर्ट- )     |     पट्टे की भूमि पर लगी धान की फसल में सरपंच/सचिव/रोजगार सहायक करा दिए वृक्षारोपण (पूरन चंदेल की रिपोर्ट)      |     ग्राम पंचायत किरगी के नाली निर्माण भ्रस्टाचार की फिर खुली पोल {मनीष अग्रवाल की रिपोर्ट}     |     ओवरलोडिंग से सड़कों की हो रही खस्ताहाल ट्रक ट्रेलर मोटर मालिक हो रहे मालामाल {वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की रिपोर्ट}     |     क्या यहाँ ? इंसान की जगह आवारा कुत्तो को किया जाता है भर्ती {पुष्पेन्द्र रजक की रिपोर्ट}     |     कमिश्नर को दिया आवेदन पत्र, दुकानदार के कहने पर की थी शिकायत (रमेश तिवारी की रिपोर्ट))     |     युवा अपनी ऊर्जा सकारात्मक कार्यों में लगाएँ, सोशल मीडिया का करें सदुपयोग- कलेक्टर     |     अनुपपुर जिले में आगामी रविवार को नही रहेगा पूर्ण लॉकडाउन (अनिल दुबे की रिपोर्ट)     |     धार्मिक स्थलों में ना करें सामूहिक पूजा- बिसाहूलाल सिंह (अनिल दुबे की रिपोर्ट)     |