# भारत में रिकार्ड ; एक ही दिन में मिले 26000 हजार से ज्यादा मामले ## भारत में कोरोना का कुल आकड़ा 822,603 # वहीँ 516,206 मरीज ठीक हुए,तो वहीँ 22,144 लोगों की हुई मौत # # भारत विश्व में कोरोना के चपेट में पंहुचा तीसरे नंबर पर ये बढ़ता आकड़ा, डराने वाला है # वही रिकवर मरीजों की संख्या भारत में बेहतर ##

Post 5

करौंदी पंचायत में सरपंच के फर्जी हस्ताक्षर कर लगे बिल क्या दर्ज होगा 420 का मामला……. ? ( आशुतोष सिंह की रिपोर्ट )

Post 1

पुष्पराजगढ़:-

सचिव सहित जनपद में बैठे अधिकारी भी जिम्मेदार
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वा पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में सुविधाएं मुहैया कराये जाने को लेकर भारी-भरकम प्रयास किए जा रहे हैं आवास योजना मेड़बंधान,खेत तालाब, शौचालय से लेकर नरेगा जैसे जनहित कारी योजनाओ के लिये आबंटन ग्राम पंचायत के खाते मे आता है इस प्रकार कई माध्यमो से सरकार गरीबों को लाभ दिलाने मे कोई कसर नहीं छोड़ी है नतीजा यह है कि कुछ गांव के जिम्मेदारों द्वारा सारी सुख सुविधाएं कागजों में खानापूर्ति कर दी जाती है हितग्राहियों को लाभ तो दूर की बात है जिम्मेदार अपना ही कोटा पूरा करने में लगे है इस भ्रष्टाचार और कमीशन खोरी से अपना ही पेट भर रहे हैं जिसका जीता जागता उदाहरण ग्राम पंचायत करौंदी है जहां के सरपंच फूलमती बाई के अलावा रोजगार सहायक, सरपंच पति, सरपंच पुत्र द्वारा सरपंच के फर्जी हस्ताक्षर कर लाखों का गबन करने का मामला सामने आया है सूत्रों की माने तो कागजों में काम दिखाकर बैंकों से राशि निकाल ली और दुकानों के फर्जी बिल लगा दिए गये है राशि आहरण के बाद भी ग्राम का विकास ठप है इस काम में सचिव समेत उच्च अधिकारियों की मिली भगत साफ दिखाई देती है।

राशि निकालने के लिए फर्मों का उपयोग

Post 2

जनपद पंचायत पुष्पराजढ़ के करौंदी पंचायत में कैसे पंचायत राशि को हड़प किया जाये को लेकर रोजगार सहायक वा सरपंच पुत्र मे होड़ लगी है सूत्रों की माने तो इसके लिए फर्जी फर्मों के नाम पर रजिस्ट्रेशन कराकर पंचायतों से राशि आहरित की जाती है पंचायत कर्मियों ने निर्माण अपने अनुसार कराया और उसका भुगतान भी अपने अनुसार करा ही लिया इसमें फर्जी फर्मों का जीएसटी सहित अन्य खर्चे दिये गये जिसमें उन्होंने अपनी फार्मों के बिल बनाकर उन्हें दिये हकीकत में ये फर्में जमीनी स्तर पर है ही नहीं इसलिए इन्हें सिर्फ पंचायत ने अपनी राशि आहरित करने के लिए इस्तेमाल कर रही है।

होनी चाहिए संपत्ति की जांच

स्थानीय लोगों का कहना है कि करौंदी सचिव और उनके अधीनस्थ रोजगार सहायक सहित सरपंच की संपत्ति की जांच होनी चाहिए क्षेत्र में हुए भ्रष्टाचार और इनकी बढ़ी हुई संपत्ति से यह साफ जाहिर होता है कि एक छोटे से कर्मचारी के पास इतनी संपत्ति कहां से आई सूत्र बताते हैं कि पंचायत में हुए भ्रष्टाचार के बाद अब सचिव आलिशान हवेली तैयार करवा रही है और पंचायत के द्वारा हुए अधूरे शौचालय के निर्माण के बाद भी राशि निकालने का मामला अब जनचर्चा में आ चुका है स्थानीय लोगों द्वारा बताया गया कि मीडिया के हस्ताक्षेप के बाद सचिव रोजगार सहायक एवं सरपंच पुत्र ने पुनः शौचालय का काम शुरू कर दिया है साथ ही ग्राम वासियों का कहना है कि पूर्व में सचिव और रोजगार सहायक द्वारा जितना भी काम किया गया है उसका भी भुगतान शेष है गरीब मजदूर जहां अपनी मजदूरी के लिये भटक रहे है वही शासन के पैसो से इनकी कमाई अब छिपाये नही छिप रही है अगर उसकी निष्पक्ष जांच हो जाये तो सचिव सहित पंचायत से लेकर जनपद में बैठे अधिकारियों की कलई खुलकर सामने आ सकती है।

दर्ज होना चाहिए मामला

सूत्र बताते हैं कि पंचायत में हुए भ्रष्टाचार में पंचायत के सरपंच पति, सरपंच पुत्र, सचिव, रोजगार सहायक ने अहम रोल अदा किया है ग्राम पंचायत की सरपंच फूलमती बाई के नाम से फर्जी हस्ताक्षर कर लाखों रूपये की राशि आहरित की गई जिसमें सरपंच पति, रोजगार सहायक, पुत्र भी शामिल है ऐसा नहीं है कि इसकी जानकारी पंचायत में पदस्थ सचिव सहित आला अधिकारियों को नहीं है जानकारों का कहना है कि अपनी जेब गर्म करने के फेर में कथित जिम्मेदारों ने उक्त कृत्य को सह दिया स्थानीय लोगों कि मांग है कि जिन्होंने फर्जी हस्ताक्षर कर राशि का बंदर बांट किया है निष्पक्षता से जांच कर उनके ऊपर और जिम्मेदारों पर भी आपराधिक धाराओं के तहत मामला दर्ज होना चाहिए।

खुद के भाई को पहुंचाया लाभ

करौंदी पंचायत में जिस समय भ्रष्टाचार की यह इबारत लिखी गई उस समय से अब तक गीता संत सचिव है और सरपंच फूलमती बाई है इस पंचायत में पंचायत राज्य अधिनियमों का भी जमकर माखौल उड़ाया गया सूत्र बताते है कि रोजगार सहायक राजेश्वर ने अपने भाई के नाम पर फर्म बनाकर शौचालयों सहित अन्य योजनाओं के तहत राशि आहरित कर ली है जिसमें सचिव सहित जनपद में पदस्थ अधिकारियों ने भी जमकर मलाई छानी है ऐसा नहीं है कि जनपद में बैठे अधिकारियों पर पहली बार यह आरोप लग रहे हो इससे पूर्व भी पुष्पराजगढ़ जनपद पंचायत कई बार भ्रष्टाचार के लिए सुर्खियों में रहा है अगर मामले की निष्पक्ष जांच हो जाये तो कई शासकीय नुमाईंदों के चेहरे से पर्दा उठ सकता है।

Post 4
Post 2
Post 3

Leave A Reply

Your email address will not be published.

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- +919424776498

सचिव रोजगार सहायक और सरपंच की मिलीभगत से पंचायत का हुआ बंटाधार (अनिल दुबे की रिपोर्ट)     |     ग्राम पंचायत जीलंग सचिव, रोजगार सहायक हितग्राहियों से प्रधानमंत्री आवास का लाभ दिलाने के नाम पर कर रहे है अवैध वसूली -(पूरन चंदेल की रिपोर्ट- )     |     पट्टे की भूमि पर लगी धान की फसल में सरपंच/सचिव/रोजगार सहायक करा दिए वृक्षारोपण (पूरन चंदेल की रिपोर्ट)      |     ग्राम पंचायत किरगी के नाली निर्माण भ्रस्टाचार की फिर खुली पोल {मनीष अग्रवाल की रिपोर्ट}     |     ओवरलोडिंग से सड़कों की हो रही खस्ताहाल ट्रक ट्रेलर मोटर मालिक हो रहे मालामाल {वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की रिपोर्ट}     |     क्या यहाँ ? इंसान की जगह आवारा कुत्तो को किया जाता है भर्ती {पुष्पेन्द्र रजक की रिपोर्ट}     |     कमिश्नर को दिया आवेदन पत्र, दुकानदार के कहने पर की थी शिकायत (रमेश तिवारी की रिपोर्ट))     |     युवा अपनी ऊर्जा सकारात्मक कार्यों में लगाएँ, सोशल मीडिया का करें सदुपयोग- कलेक्टर     |     अनुपपुर जिले में आगामी रविवार को नही रहेगा पूर्ण लॉकडाउन (अनिल दुबे की रिपोर्ट)     |     धार्मिक स्थलों में ना करें सामूहिक पूजा- बिसाहूलाल सिंह (अनिल दुबे की रिपोर्ट)     |