# मुख्यमंत्री सीएम शिवराज सिंह का हुआ आगमन ##

Post 5

300 मामले में गवाह बना सोमेश ( दलबीर सिंह )

Post 1

क्या ऐसा संभव है कि कोई एक बंदा 250-300 केस में चश्मदीद गवाह हो ?
उसके 300 केस में फर्ज़ी गवाह होने के क्या मायने हैं……..? क्या इतना आसान है कि किसी के ख़िलाफ़ फर्ज़ी मामले बनाकर फ़र्ज़ी गवाह जुटा कर अदालतों के चक्कर लगवा देना और कई मामलों में सज़ा भी दिलवा देना……….? आसान नहीं होता तो छत्तीसगढ़ का सोमेश पाणिग्रही 250-300 मामलों में गवाह कैसे बन जाता… ?

हिन्दुस्तान टाइम्स के रीतेश मिश्र की यह रिपोर्ट दहला देने वाली है। बहुत लोग इसे पढ़कर हंस सकते हैं मगर उन्हें भी पता नहीं कि वे या उनका कोई भी रिश्तेदार फ़र्ज़ी केस में फंसा दिया जा सकता है। आपसे कहा जाएगा कि अदालत में भरोसा रखिए…! इंसाफ़ मिलेगा…! आख़िर भारत में किसी को फर्ज़ी मुकदमें में फंसा देना इतना आसान क्यों हैं ….? क्या हम एक निष्पक्ष और पेशेवर पुलिस तक नहीं पा सकते हैं……? क्या यही हम सबकी औकात रह गई है……?

सोमेश पाणिग्रही बस्तर का रहने वाला है। 2013 में पहली बार पुलिस ने जुआ खेलने के मामले में गिरफ्तार लोगों के केस में गवाह बनने को कहा। ना नुकर करने के बाद गवाह बन गया और उसके बाद पुलिस से संबंध रखने के नाम पर गवाह बनता चला गया। पुलिस भी ऐसी कि किसी को जानबूझ कर फर्ज़ी मामलों में गवाह बनाती रही।

Post 2

सोमेश के बारे में कहा गया है कि सब जानते हैं कि इसे कुछ भी रटा दो, गवाही दे आता है। बस्तर का रहने वाला है सोमेश। सोमेश ने इस रिपोर्ट में कहा है कि कोर्ट में उसे हर मजिस्ट्रेट, वकील और पुलिसवाला जानता है। जुआ खेलने के मामले से लेकर अफीम की ज़ब्ती और माओवादी हिंसा तक के मामले में सोमेश चश्मदीद गवाह है। इसने कितनों की ज़िंदगी बर्बाद की होगी……? पुलिस ने सोमेश का सहारा लेकर कितनों से पैसे लिए होंगे……? इस खेल के पीछे परिवारों पर क्या गुज़री होगी…….?

यह कहानी हम सभी की चिन्ता के केंद्र में होनी चाहिए। भारत में किसी को भी फ़र्ज़ी मुकदमे में फंसा देना आसान है। वर्षों तक जांच और अदालती हेर-फेर की प्रक्रिया में किसी का जीवन बर्बाद हो जाता है। एक फ़र्ज़ी केस से पीछा छुड़ाने में लोगों के दस दस साल लग जाते हैं और सारी पूंजी बर्बाद हो जाती है। न्याय की उस जीत के लिए जिसे हासिल करने के लिए कोई अपना जीवन हार जाता है। कई बार सोचता हूं कि दस साल बाद मिली जीत उस व्यक्ति की जीत है या उस संस्था की जीत है जो हर दिन न्याय पाने की आस में आ रहे लोगों को हराती रहती है। हम जिसे न्याय की जीत कहते हैं दरअसल वह न्याय की हार है।

इस कहानी से मिलती जुलती हज़ारों कहानियों आपके आस-पास बिखरी हैं। एक बार जब उनके करीब जाएंगे तो सरकारों को लेकर ज़िंदाबाद करने का सारा जोश हवा में उड़ जाएगा। इस जोश का कुछ तो फायदा हो। क्या हमें सिर्फ सरकार और नेता ही चाहिए….? व्यवस्था नहीं चाहिए….? सोचिएगा ज़रा ग़ौर से।

सोर्स

The curious case of a Chhattisgarh grocer who is police witness in ‘300 cases …
https://www.hindustantimes.com › …

Post 4
Post 2
Post 3

Leave A Reply

Your email address will not be published.

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- +919424776498

फर्जी बिल लगाने के बादशाह निकले…….गुप्ता     |     सी.एम. हेल्पलाइन की लंबित शिकायतों का निराकरण ना करने वाले अफसरों का वेतन आहरण नहीं होगा@अनिल दुबे9424776498     |     प्रक्रिया का पालन करें पंचायतें, टेंडर से हो खरीदी फर्जी बिल पर लगेगा अंकुश…….यदुवंश दुबे ने व्यक्त किये अपने विचार@आसुतोष सिंह     |     बस वाहन चालक यात्रियों के जेब मे डाल रहे डाका ( वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से )     |     पशु चिकित्सालय के अस्तित्व पर खतरा ( वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से )     |     बिना कनेक्शन पहुंचा बिजली बिल, आश्रम को लगा करेंट का झटका (वरिस्ट पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से)     |     पुष्पराजगढ़ विधायक फुंदेलाल मार्को द्वारा दसवें उप स्वास्थ्य केंद्र भवन का किया भूमि पूजन ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |     जनपद पंचायत पुष्पराजगढ़ मे समीक्षा बैठक का हुआ आयोजन ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |     पटना लांघाटोला से करपा जाने वाली रोड का कब होगा कायाकल्प ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |     शिशु मृत्यु दर मे कमी लाने समीक्षा बैठक हुई संपन्न ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |