# मुख्यमंत्री सीएम शिवराज सिंह का हुआ आगमन ##

Post 5

यात्रियों की सुरक्षा के साथ हो रहा खिलवाड़ ( आशुतोष सिंह की रिपोर्ट )

Post 1

जानवरों के तर्ज पर यात्रा करने को मजबूर

जिले सहित नगर से होकर गुजरने वाली बसों, टैक्सियों, ऑटो आदि में यात्रियों के जान माल का वाहन संचालक सौदा कर रहे है। कोतमा पुष्पराजगढ़ सहित अन्य आस पास के क्षेत्रो में संचालित बस स्टेन्डो से निकलने वाली लगभग आधा सैकडा बसो का यही हाल नजर आ रहा है। बसो में यात्रियो की खचाखच भीड़ के साथ समानों का भी परिवहन किया जा रहा है। बसों में लगेज रखने के स्थान पर बडे – बडे सामान भी अन्य स्थानो तक मालवाहक वाहन बना कर पहूँचाए जा रहे है। वंही टैक्सियों में ऊपर भी छतों में सवारी बैठाई जाती है। ऐसी स्थिति में कभी भी बडी घटना घट हो सकती है। परिवहन विभाग के द्वारा इन बसो को परमिट तो उपलब्ध करा दी जाती है, लेकिन विभाग द्वारा इसकी निगरानी नही की जाती है। जिससे बस संचालकों के हौसले बुलन्द रहते है वा मनमानी तरीके से परिवहन कार्य करते हैं।

बसों को बना लिये हैं मालवाहक वाहन

Post 2

अनुपपुर जिले के लगभग सभी बस स्टैंडों से प्रतिदिन आधा सैकडा बसों का आवागमन होता रहता है। इन बसो पर क्षमता से अधिक यात्री खुलेआम भरे जाते है। साथ ही व्यपारियों के समानों को भी परिवहन कर गन्तव्य तक पहूँचाया जाता है। हाल यह है कि कभी कभी रूई के बडे वन्डल तो कभी बर्तन के बड़े झाल बसों टैक्सियों में लदे रहते हैं, इन बंडलों की ऊंचाई तय ऊंचाई से ज्यादा होती है और ऐसे वाहन परिवहन करते आसानी से देखे जा सकते है। ये स्वीकृत ऊंचाई से ज्यादा तक लदे सामान नगर से लेकर गांवों तक लाया लेजाया जाता हैै। जिससे हमेशा दुर्घटना की आशंका बनी रहती है। कभी भी बिजली के नंगे तारों की चपेट में आ कर बेगुनाह यात्रियों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ सकता है।

ग्रामीणों क्षेत्रो में भी की जा रही लापरवाही

व्यपारियो की माने तो बसो से माल परिवहन कराना अपेक्षाकृत काफी सस्ता होता है। बसों, टैक्सियों से माल परिवहन कराने पर जंहा समय की बचत होती है वंही भाड़ा भी कम लगता है। समय पर सामान असानी से गन्तव्य तक पहुंच जाता है। वही दूसरी तरफ बस संचालकों को भी अतिरिक्त आय प्राप्त होती है, इसलिए खुलेआम यात्री बसो को मालवाहक के रूप में उपयोग करते है। ऐसी बसो का सबसे ज्यादा उपयोग ग्रामीण क्षेत्रो में होता है। इस दिसा में न तो यातायात विभाग ध्यान दे रहा है न ही परिवहन विभाग के द्वारा ध्यान दिया जा रहा है। दोनो ही विभाग उदासीन बने हुए हैं।

चिल्लर पैसों का बहाना बना वसूलते हैं मनमाना किराया

यात्रियो ने बताया की बस संचालको सहित टेक्सी चालक भी मनमानी करते हैं, ये वाहन संचालक अधिक पैसे कमाने के चक्कर में अपने बसो पर न तो किराया लिस्ट चस्पा करते है ना ही सही दाम से यात्रियों से किराया लिया जाता है। कहा जा सकता है कि बस संचलाचक यात्रियो से ममनमाना किराया वसूल करते है। जिन यात्रियों को यात्रा स्थान तक का किराया पता होता है उनसे चिल्लर पैसों का बहाना बना कर अतिरिक्त पैसे ऐंठ लिए जाते हैं।

संयुक्त चेकिंग अभियान चलाकर करे कार्यवाही

बसों, टैक्सियों में मावेशियों की तरह यात्री भरकर परिवहन कराया जाता है और यात्रियों को मजबूरन इन ठसाठस भरी बसों में बैठना पड़ता है। जिससे यात्रा करने वाले यात्रियों को भारी परेशानी के साथ जान जोखिम में लेकर यात्रा करनी पड़ती है। इन बसों, टैक्सियों कि चेकिंग संयुक्त रूप से अभियान चलाकर करने की आवश्यकता है तब कंही बस टैक्सी संचालकों के उपर नकेल कसा जा सके साथ ही दोसी पाए जाने पर सख्त कार्यवाही की जाये। ताकि यात्रियों को आवागमन में परेशानियों का सामना न करना पड़े। साथ ही जान माल की सम्भावित घटना को भी टाला जा सके।

इनका कहना है

जिन गाड़ियों में ओवर लोड का प्रकरण सामने आएगा उन पर कार्यवाही की जाएगी ।

ब्रजेन्द्र मिश्रा
यातयात प्रभारी अनुपपुर

बसों की जानकारी दीजिए उनको दिखवाते हैं यदि तय सीमा से ज्यादा ऊंचाई तक समान पाया जाता है उन पर आवश्य कार्यवाही की जाएगी।

ललिता प्रसाद शोनवानी
परिवहन विभाग अनुपपुर

Post 4
Post 2
Post 3

Leave A Reply

Your email address will not be published.

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- +919424776498

एक लगाओ अस्सी पाओ के खेल में युवा हो रहे बर्बाद ,कौन खिला रहा है लांघा टोला पटना में सट्टा (अनिल दुबे की खास रिपोर्ट))     |     बधार में होगा दीवाली धमाका, हर्ष खेड़िया फोड़ेंगे बम पत्थर खदानों में लगी हैं ब्लास्टिंग मसीन वीडियो वायरल (अनिल दुबे की रिपोर्ट@9424776498)     |     मध्यप्रदेश की जनता तोड़ेगी कमलनाथ का घमण्ड — शिवराज सिंह चौहान     |     विकास की नयी इबारत लिखने को तैयार बिसाहूलाल — सुदामा सिंह     |     चुनावी सरगर्मी के बीच छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने लिया माँ नर्मदा का आशीर्वाद     |     जिले की बड़ी खबर: सम्मान की जगह…कोरोना योद्धाओं को बाहर करने की तैयारी     |     सचिव रोजगार सहायक और सरपंच की मिलीभगत से पंचायत का हुआ बंटाधार (अनिल दुबे की रिपोर्ट)     |     ग्राम पंचायत जीलंग सचिव, रोजगार सहायक हितग्राहियों से प्रधानमंत्री आवास का लाभ दिलाने के नाम पर कर रहे है अवैध वसूली -(पूरन चंदेल की रिपोर्ट- )     |     पट्टे की भूमि पर लगी धान की फसल में सरपंच/सचिव/रोजगार सहायक करा दिए वृक्षारोपण (पूरन चंदेल की रिपोर्ट)      |     ग्राम पंचायत किरगी के नाली निर्माण भ्रस्टाचार की फिर खुली पोल {मनीष अग्रवाल की रिपोर्ट}     |