# मुख्यमंत्री सीएम शिवराज सिंह का हुआ आगमन ##

Post 5

ठेकेदार द्वारा श्रम कानून की उड़ाई जा रही धज्जियां ( आशुतोष सिंह की रिपोर्ट )

Post 1

मामला लोकयांत्रिकी विभाग का

लोक स्वास्थ यांत्रिकी विभाग अनूपपुर के खण्ड पुष्पराजगढ़ मे ठेकेदार रामनरेश बोहरे मेसर्स सिद्ध बाबा कन्सट्रेक्सन द्वारा विभागीय आला अधिकारियों से मिली भगत कर श्रम कानून को मजाक बनाया जा रहा है दो लेबरो के भरोसे 119 ग्राम पंचायतों के हैण्डपंप मरम्मत का कार्य किया जा रहा है। 20 से 25 पाइप इन्ही दो लेबरों के माध्यम से निकाली वा लगाई जाती है। 3.25मी. की ये पाइप 10 किलो बजन की होती है सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि मजदूरों का किस कदर शोषण किया जा रहा है। अब यह तो विभागीय आला अधिकारी ही जाने कि यह कैसे संभव है।

दो लेबरो के भरोसे 119 ग्राम पंचायतों के हैण्डपंप

Post 2

ठेकेदार द्वारा श्रम कानून का खुलेआम उलंघन करते हुये महज दो मजदूरों से 119 ग्राम पंचायतों के बिगड़े हैण्डपंपों का सुधार कार्य कराया जा रहा है यह बात गले नही उतरती कि मात्र दो मजदूर एक हैण्डपंप का सुधार कार्य कैसे कर सकते है ? वहीं इन्ही दो मजदूरों से 119 ग्राम पंचायतों के 267 ग्रामों मे लगे सैकड़ों हैण्डपंप सिद्धबाबा कन्सट्रेक्सन द्वारा महज कागजों मे सुधरवा दिये जाते है। विभागीय आला अधिकारी कुम्भकरणी निद्रा मे रहकर अपना कमीशन प्राप्त कर लेते है। ठेकेदार ने ना तो मजदूरों का श्रम कार्यालय मे रजीस्ट्रेसन कराया है, ना ही मजदूरों के पीएफ आदि के दस्तावेज जमा कराये है और ना ही इनका बीमा कराया गया है। यदि ऐसे मे कोई बड़ी दुर्घटना मजदूरों के साथ घटित होती है तब ठेकेदार द्वारा जहां हाथ खड़ा कर लिया जायेगा वहीं विभागीय अधिकारी अपना पल्ला झाड़ लेगें तब इन गरीब मजदूरों का क्या होगा ?

ईपेमेंट की जगह किया जाता है नगदी भुगतान

भारत सरकार द्वारा सभी विभागों को डिजिटल इंडिया के माध्यम से आपस मे जोड़ने का प्रयास किया जा रहा है। साथ ही पारदर्शिता भी बनाई जा रही है। उसी तारतम्य मे लगभग सभी विभागों मे कार्यरत कर्मचारियों का भुगतान ईपेमेंट के माध्यम से करना सुनिष्चत किया गया है वहीं ठेकेदारों के लिये भी यही नियम लागू होता है। जबकि मेसर्स सिद्धबाबा कन्सट्रेक्सन द्वारा मजदूरी भुगतान मे पारदर्शिता ना बरतते हुये नियम कानून को ताक मे रखकर नगद वा कम मजदूरी का भुगतान किया जाता है यह भुगतान भी नियमित रुप से ना कर महीनों बाद मजदूरों को दिया जाता है जिससे गरीब मजदूरों का खुले आम षोषण हो रहा है। साथ ही किसी पंचायत के बिगड़ एक हैण्डपंप की जगह फर्जी तरीके से चार से पांच हैंडपंपो की रिपेयरिंग होना बता दिया जाता है जिससे जहां सरकारी पैसों का दुरुपयोग होता है वहीं मजदूरों से तय भार क्षमता से ज्यादा का कार्य भी कराया जाता है। गरीबी से बेबस लाचार मजदूर सब कुछ सहते हुये कार्य करने को मजबूर है।

क्या कहते है नियम

नियमानुसार एक मरम्मत कार्य मे लगे वाहन पर पांच मजदूरओं का होना आवष्यक है ठेकेदार द्वारा दो वाहनों के बीच मे महज दो ही मजदूर रखे गये है। इन मजदूरों की जानकारी श्रम विभाग को दिया जाना, मजदूरों का अनिवार्य रुप से बीमा कराना, कर्मचारी की सूची चस्पा करना, ईपेमेंट के माध्यम से भुगतान करना, पीएफ आदि फण्ड के लिये आवष्यक दस्तावेज जमा कराना आवष्यक होता है किन्तु ऐसा कुछ नही होने पर भी ठेकेदार की मनमानी बेदस्तूर जारी है जबकि इन नियमों के पालन नही करने पर ठेकेदारी को विभागीय आला अधिकारियों द्वारा निरस्त किय जा सकता है। वर्षो से मनमानी कर रहे मेसर्स सिद्ध बाबा कन्सट्रेक्सन के मालिक रामनरेश बोहरे पर आखिर विभाग क्यूं महरबान बना हुआ है ?

इनका कहना है

चाहे वो एक भी मजदूर ना रखे हमे तो हैंडपंप बनने से मतलब है श्रम विभाग के उलंघन से हमे कोई लेना देना नही है, ये ठेकेदार जाने।
जिला लोक स्वास्थ यांत्रिकी अधिकारी
एच.एस. धुर्वे

Post 4
Post 2
Post 3

Leave A Reply

Your email address will not be published.

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- +919424776498

सचिव रोजगार सहायक और सरपंच की मिलीभगत से पंचायत का हुआ बंटाधार (अनिल दुबे की रिपोर्ट)     |     ग्राम पंचायत जीलंग सचिव, रोजगार सहायक हितग्राहियों से प्रधानमंत्री आवास का लाभ दिलाने के नाम पर कर रहे है अवैध वसूली -(पूरन चंदेल की रिपोर्ट- )     |     पट्टे की भूमि पर लगी धान की फसल में सरपंच/सचिव/रोजगार सहायक करा दिए वृक्षारोपण (पूरन चंदेल की रिपोर्ट)      |     ग्राम पंचायत किरगी के नाली निर्माण भ्रस्टाचार की फिर खुली पोल {मनीष अग्रवाल की रिपोर्ट}     |     ओवरलोडिंग से सड़कों की हो रही खस्ताहाल ट्रक ट्रेलर मोटर मालिक हो रहे मालामाल {वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की रिपोर्ट}     |     क्या यहाँ ? इंसान की जगह आवारा कुत्तो को किया जाता है भर्ती {पुष्पेन्द्र रजक की रिपोर्ट}     |     कमिश्नर को दिया आवेदन पत्र, दुकानदार के कहने पर की थी शिकायत (रमेश तिवारी की रिपोर्ट))     |     युवा अपनी ऊर्जा सकारात्मक कार्यों में लगाएँ, सोशल मीडिया का करें सदुपयोग- कलेक्टर     |     अनुपपुर जिले में आगामी रविवार को नही रहेगा पूर्ण लॉकडाउन (अनिल दुबे की रिपोर्ट)     |     धार्मिक स्थलों में ना करें सामूहिक पूजा- बिसाहूलाल सिंह (अनिल दुबे की रिपोर्ट)     |