# भारत में रिकार्ड ; एक ही दिन में मिले 26000 हजार से ज्यादा मामले ## भारत में कोरोना का कुल आकड़ा 822,603 # वहीँ 516,206 मरीज ठीक हुए,तो वहीँ 22,144 लोगों की हुई मौत # # भारत विश्व में कोरोना के चपेट में पंहुचा तीसरे नंबर पर ये बढ़ता आकड़ा, डराने वाला है # वही रिकवर मरीजों की संख्या भारत में बेहतर ##

Post 5

भ्रष्टाचार की आग मे झुलसती ग्राम पंचायत बीजापुरी नंबर दो ( पूरन चंदेल की रिपोर्ट )

Post 1

मामला जनपद पंचायत पुष्पराजगढ़ के अंतर्गत ग्राम पंचायत बीजापुरी नंबर दो का है जहां के सर्वे सर्वा उप सरपंच तीरथ सिंह परस्ते के द्वारा क्रमशः दिनांक 13.07.2016 मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत पुष्पराजगढ़ एवं 22.07.2016 मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला अनूपपुर कार्यवाही ना किये जाने के तदोपरान्त कमिश्नर कार्यालय संभाग शहडोल को दिनांक 07.10.2016 को अवगत कराया गया लेकिन प्रशासन के कानो मे जूं तक नही रेंगी जिसका नतीजा ग्राम पंचायत का विकास कार्य बाधित है सरकार नई योजनाओ का समावेस कर गावों को दुरुस्त वा बदहाली से मुक्ति का हल ढ़ूढ़ रहीं है वहीं दूसरी ओर स्थानीय कर्मचारियों द्वारा सहयोग प्रदान ना करते हुये सेंधमारी एवं कमीशन खोरी को ही अपना कर्तव्य समझा जाता है।

कागज मे बना दी गई सड़के कर लिया गया फर्जीवाड़ा

पुष्पराजगढ़ जनपद अंतर्गत आने वाले ग्राम पंचायत बीजापुरी नंबर दो मे कागजी सड़क बना दी गई है। पहली सड़क कोडर सिंह के घर से जोहन के घर तक बनना बताया गया है इस सड़क को बनाने मे 4.39.400 रुपये की राशि मटेरियल के नाम से आहरित कर ली गई है। मजदूरो की मजदूरी शेष है हकीकत मे उक्त पंचायत मे कोडर नाम का कोई व्यक्ति नही है। दूसरी कागजी सड़क आंगनबाड़ी भवन से गुलाब केे घर तक बनना बताया गया है यह सड़क पहले ही 2008 मे बन चुकी थी जिसका प्रमाण वहां पे मौजूद सड़क निर्माण के दौरान लगाया गया बोर्ड है अब इसी सड़क को एक बार फिर 1.56.000 रुपये की लागत मे बनना बताया गया है। तीसरी सड़क का नाम सम्भर के घर से धनुआ के घर तक ये दोनो घरो के बीच का फासला महज 10 फिट है दोनो घर रास्ते के आजू बाजू बने हुये है सरपंच सचिव रोजगार सहायक वा इंजीनियर ने मिली भगत कर उक्त सड़क को 90 मी. का होना बताकर फर्जी तरीके से 3.15.000 रुपये की राशि आहरित कर ली है।

Post 2

सचिव ने भी बहती गंगा मे लगाई डुबकी

उक्त पंचायत मे पदस्थ सचिव राममिलन विश्वकर्मा द्वारा खुद के खाता क्रमांक 3269211255 मे दिनांक 23.12.2016, 17.01.2017, 31.03.2017 को क्रमशः बिल क्रमांक 05,16 ईपीओ क्रमांक 837243856735, 1042602 के अंतर्गत 1,30,000, 2,30,000, 2,27,000 तथा अपने दूसरे खाता क्रमांक 2296576763 मे बिल नंबर 12 ईपीओ क्रमांक 1249544 दिनांक 22.08.2017 को 1,82,000 स्थानान्तरित करा लिया गया है। इतना ही नही अपनी पत्नी उर्मिला विश्वकर्मा के खाता क्रमांक 3995995503 मे भी बिल क्रमांक 18 ईपीओ क्रमांक 1469699 दिनांक 15.01.2018 को 1,59,400 रुपये उक्त खाते मे स्थानान्तरित कर सरकारी राशि का दुरुपयोग किया गया है।

सब इंजीनियर की बराबर की सहभागिता

शासन द्वारा कार्यो की गुणवत्ता भौतिक स्थिति वा सत्यापन की जिम्मेदारी जिन्हे सौंपी गयी है वो अपनी जिम्मेदारी सही मायने मे नही निभा रहे है और भ्रष्टाचार की इस खेल मे अपना कमीशन लेकर उक्त फर्जी कार्य को प्रमाणित कर रहे है। इंजीनियर के बिना भौतिक सत्यापन के राशि आहरण संभव नही है अगर ऐसा होता है तो फर्जी कार्यो को अंजाम तक पहुंचाना उतना आसान नही होता स्पष्ट है रुपयों की सहभागिता बाखूबी उपर से लेकर नीचे के कर्मचारी तक निभी होगी।

कार्य अधूरे फिर भी खर्च पूरे

इस क्रम मे वृक्षारोपण, ट्री गार्ड, तारफेंसिंग, बकरीपालन, सेडनिर्माण, मुर्गी पालन सेड, गौसाला सेड, पीसीसी रोड, बाउन्ड्री वॅाल, कपिल धारा कूप निर्माण, निर्मल नीर, इन्दिरा आवास, प्रधानमंत्री आवास शौचालय राहत कार्य पीडब्लूडी द्वारा संचालित कार्य एनआरईजीएस के कार्य वाटर सेड के कार्य वन विभाग द्वारा संचालित कार्य षांति धाम आदि अपूर्ण है साथ ही अन्य कार्य भी अधूरे पड़े है। जिनकी राशि आहरित हो चुकी है। ग्रामीणों द्वारा उक्त फर्जीवाड़े की शिकायत दिनांक 22.07.2016 को मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला अनूपपुर म.प्र. से की गई लेकिन विभाग के सुस्त रवैये के चलते आज तक किसी प्रकार की कार्यवाही नही की गई है। जांच के नाम पर खाना पूर्ति कर ली गई है किन्तु भ्रष्टाचार का दामन थामे सरपंच सचिव अभी भी मजबूती के साथ अपने पदों पर बने हुये है।

आरटीआई को बनाया मजाक

आमजन के अधिकारो की रक्षा के लिये बनाया गया सूचना का अधिकार अधिनियम 2005 को अधिकारियों ने मजाक बना दिया है तभी तो 4 सालो से आरटीआई कार्यकर्ता लीला बिहारी दीप द्वारा लगातार आवेदन लगाये जा रहे है जिन्हे उक्त पंचायत वा संबधित जनपद द्वारा आज तक कोई जानकारी नही दी जा रही है। और उक्त अधिनियम को मजाक बना कर रख दिया गया है। देश के कनून की रक्षा का जिम्मा जिन्हे सौंपा गया है वे ही ग्रामीण अंचल पर रहने वाले आदिवासियों के अधिकारों को कुचलने पर आमदा है।

इनका कहना है

मैं उसकी जांच करवा लेता हूं दोषी पाये जाने पर उचित कार्यवाही की जायेगी।
मुख्य कार्यपालन अधिकारी
जनपद पंचायत पुष्पराजगढ़
रंजीत सिंह रघुवंशी

इसकी जानकारी संबधित इंजीनियर ही दे पायेंगे।
लोकसूचना अधिकारी जनपद पंचायत पुष्पराजगढ़
जागृत सिंह

रोड बनेगा, रोड बन रहा है, रोड बनवाना शुरू कर दिये है ।
इंजीनियर सुम्मेद सिंह
जनपंद पंचायत पुष्पराजगढ़

Post 4
Post 2
Post 3

Leave A Reply

Your email address will not be published.

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- +919424776498

सचिव रोजगार सहायक और सरपंच की मिलीभगत से पंचायत का हुआ बंटाधार (अनिल दुबे की रिपोर्ट)     |     ग्राम पंचायत जीलंग सचिव, रोजगार सहायक हितग्राहियों से प्रधानमंत्री आवास का लाभ दिलाने के नाम पर कर रहे है अवैध वसूली -(पूरन चंदेल की रिपोर्ट- )     |     पट्टे की भूमि पर लगी धान की फसल में सरपंच/सचिव/रोजगार सहायक करा दिए वृक्षारोपण (पूरन चंदेल की रिपोर्ट)      |     ग्राम पंचायत किरगी के नाली निर्माण भ्रस्टाचार की फिर खुली पोल {मनीष अग्रवाल की रिपोर्ट}     |     ओवरलोडिंग से सड़कों की हो रही खस्ताहाल ट्रक ट्रेलर मोटर मालिक हो रहे मालामाल {वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की रिपोर्ट}     |     क्या यहाँ ? इंसान की जगह आवारा कुत्तो को किया जाता है भर्ती {पुष्पेन्द्र रजक की रिपोर्ट}     |     कमिश्नर को दिया आवेदन पत्र, दुकानदार के कहने पर की थी शिकायत (रमेश तिवारी की रिपोर्ट))     |     युवा अपनी ऊर्जा सकारात्मक कार्यों में लगाएँ, सोशल मीडिया का करें सदुपयोग- कलेक्टर     |     अनुपपुर जिले में आगामी रविवार को नही रहेगा पूर्ण लॉकडाउन (अनिल दुबे की रिपोर्ट)     |     धार्मिक स्थलों में ना करें सामूहिक पूजा- बिसाहूलाल सिंह (अनिल दुबे की रिपोर्ट)     |