# भारत में रिकार्ड ; एक ही दिन में मिले 26000 हजार से ज्यादा मामले ## भारत में कोरोना का कुल आकड़ा 822,603 # वहीँ 516,206 मरीज ठीक हुए,तो वहीँ 22,144 लोगों की हुई मौत # # भारत विश्व में कोरोना के चपेट में पंहुचा तीसरे नंबर पर ये बढ़ता आकड़ा, डराने वाला है # वही रिकवर मरीजों की संख्या भारत में बेहतर ##

Post 5

रोस्टर प्रणाली 13 प्वाइंट के विरोध मे आदिवासी छात्र संगठन ( पूरन चंदेल की रिपोर्ट )

Post 1

रोस्टर प्रणाली 13 प्वाइंट के विरोध मे आदिवासी छात्र संगठनों ने राष्ट्रपति के नाम एसडीएम को सौंपा ज्ञापन

इन्दिरागांधी राष्ट्रीय जनजाति विश्वविद्यालय अमरकंटक के आदिवासी छात्र संगठन व जयस, भीमसेना, महाविद्यालय छात्र संगठन, मूल निवासी/आदिवासी संगठनों ने सामूहिक रुप से 13 प्वाइंट रोस्टर प्रणाली को वापस लिये जाने एवं पूर्व की भांति 200 प्वाइंट रोस्टर प्रणाली लागू किये जाने की मांग करते हुये राज्यपाल एवं राष्ट्रपति के नाम एसडीएम कार्यालय पहुंचकर ज्ञापन सौंपा साथ ही आंचलिक समस्याओं को दृष्टिगत रखते हुये नौ सूत्री मांग भी रखी गई है। उक्त संगठनो ने रैली निकालकर 13 प्वाइंट रोस्टर प्रणाली पर अपना जोरदार विरोध दर्ज कराया है।

13 प्वाइंट रोस्टर प्रणाली पर यह है आपत्ति

Post 2

उक्त संगठनो के बैनर तले ज्ञापन के माध्यम से कहा गया है कि उच्च न्यायालय अलाहाबाद उच्चतम न्यायालय नई दिल्ली के द्वारा उच्च शिक्षा पदों मे 200 प्वाइंट रोस्टर प्रणाली को बंद कर 13 प्वाइंट रोस्टर प्रणाली को लागू किया गया है ऐसा करने से एसटी, एससी व ओबीसी के लोगो को उच्च शिक्षा पदों मे पहुंच पाना मुश्किल हो जायेगा ऐसे मे इन वर्गो के पढ़ी लिखी पीढ़ी का भविष्य खतरे मे पड़ सकता है। ज्ञापन मे इस निर्णय को असंवैधानिक करार दिया गया है। संगठनों का मत है कि एसटी, एससी व ओबीसी को संविधान के अनुसार दिये गये आरक्षण मे क्रमशः प्रतिशत 7.5,15 व 27 है। यदि तीनों को मिलाकर देखा जाये तो कुल प्रतिशत 49.5 होता है जो संवैधानिक रुप से सही है वहीं दूसरी तरफ भारत सरकार ने 10 प्रतिशत स्वर्ण आरक्षण व्यवस्था लागू कर संविधान के खिलाफ कार्य कर रही है।

आरक्षण गरीबी उन्मूलन का उपाय नही है

उक्त संगठनों मे भारत सरकार द्वारा 10 प्रतिशत स्वर्ण आरक्षण व्यवस्था को गैर संवैधानिक बताते हुये ज्ञापन के माध्यम से कहा कि उच्चतम न्यायालय ने आदेशित किया था कि आरक्षण का प्रतिशत 50 से अधिक नही हो सकता ऐसे मे 10 प्रतिशत स्वर्ण आरक्षण लागू करना न्याय गत नही है इससे एसटी एससी व ओबीसी के अधिकारों का हनन किया जा सकता है। साथ ही ज्ञापन के माध्यम से अवगत कराया गया है कि संविधान के अनुरुप आरक्षण का आधार गरीबी नही हो सकती या यूं कहे कि आरक्षण कोई गरीबी उन्मूलन का उपाय नही है।

ये रहे उपस्थित

रोहित सिंह, बृजेश सिंह, परमेष्वर मरावी, राम परवेश, शंकर, मोहन मीना, किशोर सूर्यवंशी, दिनेश परस्ते, मुकेश अहिरवार सहित इन्दिरा गांधी जनजाति विश्वविद्यालय के छात्र एवं छात्राये तथा पुष्पराजगढ़ महाविद्यालय के छात्र छात्राये शामिल हुये साथ ही मूल निवासी व आदिवासी संगठन के अध्यक्ष रघुवीर सिंह, जयस से अजय सिंह उरेती, सर्वांगीण विकास सत्नाम सेवा समिति से रमाकांत चंदवंशी उपस्थित रहे।

Post 4
Post 2
Post 3

Leave A Reply

Your email address will not be published.

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- +919424776498

सचिव रोजगार सहायक और सरपंच की मिलीभगत से पंचायत का हुआ बंटाधार (अनिल दुबे की रिपोर्ट)     |     ग्राम पंचायत जीलंग सचिव, रोजगार सहायक हितग्राहियों से प्रधानमंत्री आवास का लाभ दिलाने के नाम पर कर रहे है अवैध वसूली -(पूरन चंदेल की रिपोर्ट- )     |     पट्टे की भूमि पर लगी धान की फसल में सरपंच/सचिव/रोजगार सहायक करा दिए वृक्षारोपण (पूरन चंदेल की रिपोर्ट)      |     ग्राम पंचायत किरगी के नाली निर्माण भ्रस्टाचार की फिर खुली पोल {मनीष अग्रवाल की रिपोर्ट}     |     ओवरलोडिंग से सड़कों की हो रही खस्ताहाल ट्रक ट्रेलर मोटर मालिक हो रहे मालामाल {वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की रिपोर्ट}     |     क्या यहाँ ? इंसान की जगह आवारा कुत्तो को किया जाता है भर्ती {पुष्पेन्द्र रजक की रिपोर्ट}     |     कमिश्नर को दिया आवेदन पत्र, दुकानदार के कहने पर की थी शिकायत (रमेश तिवारी की रिपोर्ट))     |     युवा अपनी ऊर्जा सकारात्मक कार्यों में लगाएँ, सोशल मीडिया का करें सदुपयोग- कलेक्टर     |     अनुपपुर जिले में आगामी रविवार को नही रहेगा पूर्ण लॉकडाउन (अनिल दुबे की रिपोर्ट)     |     धार्मिक स्थलों में ना करें सामूहिक पूजा- बिसाहूलाल सिंह (अनिल दुबे की रिपोर्ट)     |