# भारत में रिकार्ड ; एक ही दिन में मिले 26000 हजार से ज्यादा मामले ## भारत में कोरोना का कुल आकड़ा 822,603 # वहीँ 516,206 मरीज ठीक हुए,तो वहीँ 22,144 लोगों की हुई मौत # # भारत विश्व में कोरोना के चपेट में पंहुचा तीसरे नंबर पर ये बढ़ता आकड़ा, डराने वाला है # वही रिकवर मरीजों की संख्या भारत में बेहतर ##

Post 5

बारूद के ढेर पर मैकलांचल.. (आशुतोष सिंह की रिपोर्ट)

Post 1

आदिवासी अंचल में क्रेशर संचालकों का धमाका
कहां से आ रहा बारूद, खनिज विभाग कि मौन स्वीकृति

इन्ट्रो-जिले में लोग पत्थर खदान और स्टोन क्रेशर संचालन से खासा परेशान हैं, दरअसल जिले के पुष्पराजगढ़ में इन दिनों खदानों में बेतरतीब ब्लास्टिंग और क्रेशर प्लांट से उड़ रही धूल से ग्रामीणों का सांस लेना दूभर हो गया है, क्षेत्र में होने वाली ब्लास्टिंग से जहां कृषि पर बुरा प्रभाव पड़ रहा है, वहीं जल स्तर भी लगातार नीचे खसकता जा रहा है।

 अनूपपुर।

Post 2

मैकलाचंल पर्वत श्रेणियां जुड़ी-बूटी एवं प्राकृतिक संपदा से लबरेज है, लेकिन उसके बाद भी क्षेत्र के पहाड़ों में बड़े-बड़े होल कर पहाड़ों को जमींदोज किया जा रहा है। जिला खनिज विभाग को मामले जानकारी होने के बाद भी में लीपापोती का क्रम जारी है, ग्रामीण कई बार अवैध ब्लास्टिंग को बंद कराने की मांग कर चुके है, लेकिन जब कोई मामला तूल पकड़ता है तभी कुछ दिनों के लिए पहाड़ों पर सन्नाटा पसर जाता है। दिन गुजरने के साथ फिर से धमाके की गूंज पहाड़ों पर गूंजने लगती है ।

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को ठेंगा

एक तरफ पर्यावरण संरक्षण के लिए प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने स्टोन क्रेशर और खदान संचालकों से पर्यावरण स्वीकृति लेना आनिवार्य कर दिया है। वहीं दूसरी ओर वन परिक्षेत्र में अवैध रूप से पत्थरों का उत्खनन किया जा रहा है। दिलचस्प बात तो यह है कि जंगल में ब्लास्टिंग पत्थर की धड़ल्ले से खुदाई करने में जुटे हुए हैं। स्टोन क्रेशर संचालक वन और पर्यावरण संरक्षण को ठेंगा दिखाते हुए खनिज विभाग की नाक के नीचे यह सब करने में जुटे हुए हैं।

बिगड़ा पहाड़ वन क्षेत्र का स्वरूप

स्टोन क्रेशर संचालक वन परिक्षेत्र में क्रेशर लगा कर वनों के मूल स्वरूप को बिगाडने में आमदा है। उनकी जहां मर्जी होती है वहां अवैध रूप से मुरुम, पत्थर की खुदाई शुरू कर देते हैं। जानकारों की माने तो बड़ीतुम्मी, सरई, हवेली, परसेल, हर्राटोला, दुधमनिया, पटना, दोनिया, पोनी सहित अन्य कई स्थानों पर क्रेशर संचालकों द्वारा पहाड़ सहित जंगल ही साफ कर दिया गया है या जमीन को खाई नूमा बना दिया गया है। यहां नियमों को ताक पर रखते हुए पहाड़ी के हर हिस्से में जमकर अवैध खुदाई की जा रही है। इससे वन संपदा सहित पहाड़ का मूल स्वरूप ही बिगड़ गया है। इसके अलावा भी जिले में कई जगह स्टोन क्रेशर संचालक नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए अवैध उत्खनन करने में जुटे हुए हैं।

यह कहते कायदे

नियम अनुसार वन सीमा से 250 मीटर की परिधि के अंदर कोई कंपनी या व्यक्ति किसी प्रकार का उत्खनन, ब्लास्टिंग, माल डंपिंग आदि नहीं कर सकता, इसके अलावा हाइवे से भी 250 मीटर की दूर पर उत्खनन करने का प्रावधान है, लेकिन जिले के दर्जनों स्टोन क्रेशर ऐसे है जो वन सीमा और हाईवे के किनारे संचालित हो रहे हैं, जहां पत्थर खोदने के लिए ब्लॉस्टिंग भी की जाती है।

अभी भी जारी है धमाके

मध्यप्रदेश खनन अधिनियम के अनुसार समतल क्षेत्र में 6 मीटर और पहाड़ी क्षेत्र में 8 मीटर से अधिक खनन की अनुमति सिया अथवा डिया द्वारा नहीं दी जाती है, इसी प्रकार भू-जल स्तर और समुद्र तल से अधिक गहराई तक खनन की अनुमति नहीं दी जा सकती, जानकारों की माने तो अनुमति नहीं होने के बाद भी पुष्पराजगढ़ क्षेत्र में वैध और अवैध खदान संचालक नियमों को ताक पर रखे हुए हैं और समतल जमीन को खाई नुमा बनाने के बाद भी इनके द्वारा आज भी खदानों के तल में विस्फोटक लगाकर धमाके किये जा रहे हैं।

Post 4
Post 2
Post 3

Leave A Reply

Your email address will not be published.

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- +919424776498

सचिव रोजगार सहायक और सरपंच की मिलीभगत से पंचायत का हुआ बंटाधार (अनिल दुबे की रिपोर्ट)     |     ग्राम पंचायत जीलंग सचिव, रोजगार सहायक हितग्राहियों से प्रधानमंत्री आवास का लाभ दिलाने के नाम पर कर रहे है अवैध वसूली -(पूरन चंदेल की रिपोर्ट- )     |     पट्टे की भूमि पर लगी धान की फसल में सरपंच/सचिव/रोजगार सहायक करा दिए वृक्षारोपण (पूरन चंदेल की रिपोर्ट)      |     ग्राम पंचायत किरगी के नाली निर्माण भ्रस्टाचार की फिर खुली पोल {मनीष अग्रवाल की रिपोर्ट}     |     ओवरलोडिंग से सड़कों की हो रही खस्ताहाल ट्रक ट्रेलर मोटर मालिक हो रहे मालामाल {वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की रिपोर्ट}     |     क्या यहाँ ? इंसान की जगह आवारा कुत्तो को किया जाता है भर्ती {पुष्पेन्द्र रजक की रिपोर्ट}     |     कमिश्नर को दिया आवेदन पत्र, दुकानदार के कहने पर की थी शिकायत (रमेश तिवारी की रिपोर्ट))     |     युवा अपनी ऊर्जा सकारात्मक कार्यों में लगाएँ, सोशल मीडिया का करें सदुपयोग- कलेक्टर     |     अनुपपुर जिले में आगामी रविवार को नही रहेगा पूर्ण लॉकडाउन (अनिल दुबे की रिपोर्ट)     |     धार्मिक स्थलों में ना करें सामूहिक पूजा- बिसाहूलाल सिंह (अनिल दुबे की रिपोर्ट)     |