# भारत में रिकार्ड ; एक ही दिन में मिले 26000 हजार से ज्यादा मामले ## भारत में कोरोना का कुल आकड़ा 822,603 # वहीँ 516,206 मरीज ठीक हुए,तो वहीँ 22,144 लोगों की हुई मौत # # भारत विश्व में कोरोना के चपेट में पंहुचा तीसरे नंबर पर ये बढ़ता आकड़ा, डराने वाला है # वही रिकवर मरीजों की संख्या भारत में बेहतर ##

Post 5

केले के छिलके से sanitary pad बनाने वाली होनहार छात्रा रीना जापान जाएगी

Post 1

reena paid वैज्ञानिकों, विद्यार्थियों और शिक्षाविदों से अपने विचार साझा करेगी। वहां के शोध-अनुसंधान और शिक्षा प्रणाली के बारे में जानेगी…

कोरबा।

 केले के छिलके का इस्तेमाल कर सेनेटरी पेड बनाने वाली होनहार छात्रा रीना अब जापान में अपने नवाचार (इनोवेशन) का प्रदर्शन करेगी। छत्तीसगढ़ के कोरबा के एक सरकारी स्कूल की छात्रा रीना का चयन सकूरा एक्सचेंज प्रोग्राम के लिए हुआ है। वह जापान में एक जापानी परिवार के साथ पांच दिन रहेगी। वहां वैज्ञानिकों, विद्यार्थियों और शिक्षाविदों से अपने विचार साझा करेगी। वहां के शोध-अनुसंधान और शिक्षा प्रणाली के बारे में जानेगी। शिक्षा विभाग के अनुसार उसके मॉडल की प्रस्तुति उसके करियर की ऊंची उड़ान में मददगार साबित होगी।

Post 2

इन्सपायर अवार्ड मानक योजना के तहत 11वीं की छात्रा रीना राजपूत ने 14-15 फरवरी 2019 को आइआइटी दिल्ली में आयोजित 7वीं राष्ट्रीय विज्ञान प्रदर्शनी में शामिल हुई। इस योजना का उद्देश्य विज्ञान एवं तकनीक का प्रयोग कर सामाजिक विकास के क्षेत्र में समस्याओं का समाधान करने वाले नवाचारी प्रोजेक्ट तैयार करने विद्यार्थियों को प्रोत्साहित करना है।

इसके लिए आयु सीमा 10 से 15 वर्ष निर्धारित की गई है। रीना ने अपनी प्राचार्य हाई स्कूल स्याहीमुड़ी डॉ.श्रीमती फरहाना अली के मार्गदर्शन में अपना प्रोजेक्ट इको फ्रेंडली सेनेटरी नैपकिन बनाया, जिसे जिला,जोन, राज्य व राष्ट्रीय स्तर पर अत्यंत सराहना मिली। इसी प्रोजेक्ट का प्रदर्शन करने रीना अब जापान जा रही है।

डॉ अली ने बताया कि व्यावसायिक सेनेटरी नैपकिन्स के निर्माण में हानिकारक रसायन का इस्तेमाल होता है जो त्वचा संबंधी बीमारियों के लिए उत्तरदायी है। इन नैपकिन्स में प्लास्टिक का भी उपयोग होता है जो कि पर्यावरण के लिए हानिकारक हैं। इन्ही समस्याओं के समाधान के लिए केले के तने से निर्मित इको फ्रेंडली नैपकिन्स बनाए गए जो जैविक होने के कारण सस्ते हैं एवं पर्यावरण को किसी तरह का नुकसान नहीं पहुंचाते।

जिले की छात्रा का अंतरराष्ट्रीय मंच पर देश का प्रतिनिधित्व हम सभी के लिए गौरव की बात है। जब वो अपने नवाचार का प्रस्तुतिकरण कर रही होगी, विश्व की कंपनियां और वैज्ञानिकों की निगाह भी उस पर होगी, जो छात्रा को भविष्य उज्ज्वल करने का मौका दे सकते हैं। महंगे और प्रकृति को नुकसान पहुचने वाले नामी पेड का यह एक उम्दा विकल्प बन देश का आदर्श ब्रांड भी बन सकता है।

Post 4
Post 2
Post 3

Leave A Reply

Your email address will not be published.

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- +919424776498

सचिव रोजगार सहायक और सरपंच की मिलीभगत से पंचायत का हुआ बंटाधार (अनिल दुबे की रिपोर्ट)     |     ग्राम पंचायत जीलंग सचिव, रोजगार सहायक हितग्राहियों से प्रधानमंत्री आवास का लाभ दिलाने के नाम पर कर रहे है अवैध वसूली -(पूरन चंदेल की रिपोर्ट- )     |     पट्टे की भूमि पर लगी धान की फसल में सरपंच/सचिव/रोजगार सहायक करा दिए वृक्षारोपण (पूरन चंदेल की रिपोर्ट)      |     ग्राम पंचायत किरगी के नाली निर्माण भ्रस्टाचार की फिर खुली पोल {मनीष अग्रवाल की रिपोर्ट}     |     ओवरलोडिंग से सड़कों की हो रही खस्ताहाल ट्रक ट्रेलर मोटर मालिक हो रहे मालामाल {वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की रिपोर्ट}     |     क्या यहाँ ? इंसान की जगह आवारा कुत्तो को किया जाता है भर्ती {पुष्पेन्द्र रजक की रिपोर्ट}     |     कमिश्नर को दिया आवेदन पत्र, दुकानदार के कहने पर की थी शिकायत (रमेश तिवारी की रिपोर्ट))     |     युवा अपनी ऊर्जा सकारात्मक कार्यों में लगाएँ, सोशल मीडिया का करें सदुपयोग- कलेक्टर     |     अनुपपुर जिले में आगामी रविवार को नही रहेगा पूर्ण लॉकडाउन (अनिल दुबे की रिपोर्ट)     |     धार्मिक स्थलों में ना करें सामूहिक पूजा- बिसाहूलाल सिंह (अनिल दुबे की रिपोर्ट)     |