# मुख्यमंत्री सीएम शिवराज सिंह का हुआ आगमन ##

Post 5

आसमान में उतारेगी सबसे घातक सुसाइड ड्रोन

Post 1
 
दुनिया की सबसे घातक राइफल एके 47 बनाने वाली कंपनी अब सुसाइड ड्रोन को पेश करने वाली है। कंपनी को उम्‍मीद है कि यह ड्रोन की परिभाषा ही बदल देगा,,,

नई दिल्‍ली । 

पूरी दुनिया में तहलका मचाने वाली AK-47 को बनाने वाली कंपनी क्‍लाशिनकोव अब आसमान में भी बेहद खास करने वाली है। अपनी घातक असाल्ट राइफल्‍स के बाद अब यह कंपनी सुसाइड ड्रोन की हकीकत को जमीन पर उतार रही है। इसकी पहली झलक अबुधाबी में लगे डिफेंस एग्‍जीबीशन में दिखाई दी। आपको बता दें कि अबु धाबी में हर दो वर्ष में दुनिया की बड़ी हथियार कंपनियां अपने हथियारों को पेश करती हैं। इस बार यहां आने वाले क्‍लाशिनकोव के ड्रोन की धूम भी साफतौर पर दिखाई दे रही है। कंपनी का कहना है कि यह युद्ध के मायने बदलने में सहायक साबित होगा और जिस तरह से AK-47 को दुनिया के सभी देशों में तरजीह मिली है वैसे ही इसको भी कामयाबी मिलेगी। आपको यहां पर ये भी बता दें कि AK-47 दुनिया के उन चुनिंदा बेहद घातक हथियारों में से एक है जिसका लोहा आज भी माना जाता है। कई देशों की सेनाओं की पहली पसंद आज भी AK-47 बनी हुई है। इसको वेपन डिजाइनर के तौर पर करियर शुरू करने वाले मिखाइल क्‍लाशिनकोव ने बनाया था।

अब कंपनी अपने सुसाइड ड्रोन को लेकर काफी उत्‍साहित है। कंपनी ने इसको KUB-UAV नाम दिया है। कंपनी का तो यहां तक कहना है कि यह ड्रोन इस क्षेत्र में लड़ाई की तकनीक को बदलकर कर रख देगा। यह न सिर्फ दूसरे ड्रोन विमानों से सस्‍ता होगा बल्कि यह हैंडल करने में भी बेहद आसान होगा। यूं तो इस मेले में टैंक, आर्मर्ड व्‍हीकल और फाइटर जेट तक मौजूद हैं लेकिन इसके बाद भी सभी की निगाह इस ड्रोन पर जाकर ठहर रही है।

कंपनी को उम्‍मीद है कि एके 47 की ही तरह ही यह दुनिया की पसंद बन जाएगा। आपको बता दें कि सीरिया और अफगानिस्‍तान में मौजूद अपने सहयोगियों के लिए अमेरिका ने हाल ही में भारी मात्रा में इन राइफल्‍स को खरीदा है। यह अमेरिका में बनी असाल्‍ट राइफल्‍स से अधिक सस्‍ती है।

रूस की हथियार बनाने वाली कंपनी रोस्‍टेक के चेयरमेन सर्गी शेमजॉव के मुताबिक क्‍लाशिनकोव ड्रोन ऑपरेट करने में आसान है और कारगर होने के साथ-साथ काफी सस्‍ता भी है। यह करीब चार फीट चौड़ा है। यह 80 mph की रफ्तार से करीब 30 मिनट तक उड़ सकता है। यह अपने साथ छह पाउंड एक्‍सप्‍लोसिव ले जा सकता है। इसके साइज की बात करें तो यह करीब कॉफी टेबल के आकार का है। कंपनी के मुताबिक यह किसी क्रूज मिसाइल की ही तरह है जिसमें ट्रागेट की जानाकारी फीड कर लॉन्‍च किया जाता है।

इस ड्रोन को चालीस मील दूर मौजूद दुश्‍मन पर टार्गेट कर छोड़ा जा सकता है। अमेरिकी प्रोफेसर निकोलस ग्रॉसमन ने भी इस ड्रोन की काफी तारीफ की है। जानकारों की राय में यह ड्रोन एक बेहतर क्रूड होममेड डिवाइस है जिसका आने वाले समय में महत्‍व खास हो जाएगा। हालांकि इसकी कीमत को लेकर कोई खुलासा अभी तक नहीं किया गया है। यह उन देशों को देखते हुए बनाया गया है जहां पर छोटी फौज है।

Post 4
Post 2
Post 3

Leave A Reply

Your email address will not be published.

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- +919424776498

किसान आंदोलन पर विचार राजनीति से हटकर … सोचता हूँ व्यक्त करना चाहिये….दलबीर सिंह@     |     हिमाद्री सिंह के अथक प्रयासो से अब नियमित रूप से पटरी पर दौड़ेगी जबलपुर अम्बिकापुर ट्रेन@अनिल दुबे9424776498     |     खबर का हुआ, असर वाहन चालकों की सुरक्षा के लिए लगाए गए संकेत सूचक बोर्ड@अनिल दुबे9424776498     |     नौकरशाहों द्वारा मौलिक अधिकारों का हनन कलेक्टर को सौपा ज्ञापन     |     जल संसाधन विभाग की 3 करोड 11 लाख की नहर छतिग्रस्त, टूटी नहर से कैसे पहुंचे खेतों में पानी किसान परेशान{रमेश तिवारी की रिपोर्ट}     |     खंडहर से उजाला…. गरीबों का मजाक तो नही…??@अनिल दुबे9424776498     |     एसडीएम की बात बीएमओ के कान का जूं……..@अनिल दुबे9424776498     |     खनन निगम रीवा द्वारा की गई जांच परसेल कला एवं हर्रा टोला क्रेशर की जांच मामला लीज से अधिक भूभाग पर उत्खनन का (रमेश तिवारी की रिपोर्ट)     |     सतर्कता ही हमारी पहचान कोरोना का खतरा अभी टला नही है, लखन रजक@अनिल दुबे9424776498     |     नोंनघटी मोड़ में बाइक सवार की टैक्टर से हुई भिड़ंत@अनिल दुबे 9424776498     |