# मुख्यमंत्री सीएम शिवराज सिंह का हुआ आगमन ##

Post 5

अमरकंटक में महाश्विरात्रि मेला आज (आशुतोष सिंह की रिपोर्ट)

Post 1
अनूपपुर । 
मैकांचल पर्वत श्रेणी श्रंखला के शिखर पर विराजित मां नर्मदा की उद्गम स्थली अमरकंटक मे महाश्विरात्रि पर वर्षो से मेले का आयोजन होता आया है पौराणिक कथा अनुसार अमरकंटक अत्यन्त ही पवित्र स्थल के रुप मे पुराणों मे वर्णित है वैसे तो अमरकंटक से मां नर्मदा के अतिरिक्त सोन भद्र व जोहिला नदी का भी उद्गम हुआ है किन्तु सर्वार्धिक ख्याति  इस अमरकंटक को नर्मदा नदी के उदगम स्थली के रुप मे प्राप्त है यहां लगने वाला मेला जिले ही नही संभाग का सबसे बड़ा मेले के रुप मे जाना जाता है दूर दूर से श्रद्धालू पवित्र नदी मे स्नान कर मेले का लुत्फ उठाते है यहां बच्चों के लिये मनोरंजन के प्र्याप्त इंतजाम किये गये है प्रशासन भी मेले को लेकर चाक चैबंध व्यवस्था बनाये हुये है। यह मेला दिनांक 04.03.2019 से 06.03.2019 तक आधिकारिक रुप से लगेगा। पूर्वानुमान के अनुसार लाखो की भीड़ पवित्र नगरी अमरकंटक मे इस मेले के दौरान मौजूद रहेगी 
नर्मदा नदी का एतिहासिक महत्व
भगवान शंकर  की पुत्री कही जाने वाली नर्मदा नदी का पौराणिक महत्व है कहा जाता है कि जो पुण्य प्रताप गंगा नदी मे स्नान से अर्जित किया जा सकता है वह नर्मदा नदी के दर्षन मात्र से प्राप्त हो जाता है नर्मदा नदी मे मिलने वाली षिवलिंग की स्थापना के लिये प्राण प्रतिष्ठा कराने की आवष्यकता नही होती। समुद्री तल से 1054 मी. ऊँचे पहाड़ जिसे मैकांचल पर्वत के नाम से जाना जाता है मे अमरकंटक नांमक छोटा सा किन्तु पौराणिक महत्व रखने वाला यह स्थान जहां से म.प्र. की जीवनदायिनी कही जाने वाली नर्मदा नदी का उदगम हुआ है कारण नर्मदा नदी जो तीन राज्यों से होकर गुजरते हुये भुरुच नांमक स्थल से खम्भात की खाड़ी मे गिर कर समुद्र से मिलती है नर्मदा नदी की कुल लं. 1312 कि मी. है अपनी कुल लं. का सर्वाधिक भार 1077 किमी. यह म.प्र. मे बहती है यह नदी भारत मे बहने वाली बड़ी नदियों मे पांचवे नं मे आती है पूर्व से पष्चिम की ओर बहने वाली यह सबसे बड़ी नदी के रुप मे जानी जाती है नर्मदा नदी कुल 41 सहायक नदियां है म.प्र. के अतिरिक्त महाराष्ट्र मे 32 किमी एवं गुजरात मे 40 किमी यह नदी बहती है नर्मदा नदी मे 29 बड़े बांध 135 मध्यम बांघ एवं 3000 छोटे बांध बनाये गये है।
अमरकंटक और उसकी पहचान
अमरकंटक मूलतः तीनो पर्वत श्रेणी श्रंखला के मिलाव की जगह के रुप मे भी अपनी पहचान रखता है ये तीनो ही पर्वत विध्यांचल, मैकांचल व सतपुड़ा के रुप मे जाने जाते है वैसे तो दृष्य अदृष्य नदियाुं यहां से 11 निकलती है जिनमे नर्मदा नदी सोन नदी व जोहिला नदी प्रमुख है जहां नर्मदा नदी त्रिकुटा पर्वत ब्रम्हा, विष्णु, महेश मे लगे साल के वृक्षों से अपनी उदगम कुण्ड के जलासय से प्रवाहित होती है वहीं सोन नदी छ.ग. की सीमा मे बने छोटे से कुण्ड से निकलकर हजारो फीट नीचे गिरती है नर्मदा नदी तकरीबन 3 कि.मी. अमरकंटक मे बहते हुये कपिल धारा जल प्रपात से नीचे गिरती है वहीं से कुछ दूर चलकर एक बार पुनः दूधधारा मे जल प्र्रपात बनाती है इतना ही नही यहां लगे अनगिनत जड़ी बूटियों का भी उत्पादन होता है आंखो के लिये सर्वश्रेष्ठ दवा के रुप मे इस्तेमाल किये जाने वाली गुलबकावली का फूल पूरे विष्व मे सिर्फ अमरकंटक मे पाया जाता है इसके अर्क से मोतियाबिंद जैसी आंखो की घातक बीमारी भी ठीक की जा सकती है। 
अमरकंटक मे लगने वाला मेला
अमरकंटक मे हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी मेले का आयोजन किया गया है। जिसमे शासकीय विभागों द्वारा अपना पंडाल लगाया जा चुका है। मेले मे कई प्रकार के झूले, सर्कस, मौत का कुंआ, साज सज्जा की दुकाने, बच्चों के लिये खिलौने, कपड़े इत्यादि की दुकानें मेले मे सज चुकी है।
Post 4
Post 2
Post 3

Leave A Reply

Your email address will not be published.

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- +919424776498

फर्जी बिल लगाने के बादशाह निकले…….गुप्ता     |     सी.एम. हेल्पलाइन की लंबित शिकायतों का निराकरण ना करने वाले अफसरों का वेतन आहरण नहीं होगा@अनिल दुबे9424776498     |     प्रक्रिया का पालन करें पंचायतें, टेंडर से हो खरीदी फर्जी बिल पर लगेगा अंकुश…….यदुवंश दुबे ने व्यक्त किये अपने विचार@आसुतोष सिंह     |     बस वाहन चालक यात्रियों के जेब मे डाल रहे डाका ( वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से )     |     पशु चिकित्सालय के अस्तित्व पर खतरा ( वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से )     |     बिना कनेक्शन पहुंचा बिजली बिल, आश्रम को लगा करेंट का झटका (वरिस्ट पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से)     |     पुष्पराजगढ़ विधायक फुंदेलाल मार्को द्वारा दसवें उप स्वास्थ्य केंद्र भवन का किया भूमि पूजन ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |     जनपद पंचायत पुष्पराजगढ़ मे समीक्षा बैठक का हुआ आयोजन ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |     पटना लांघाटोला से करपा जाने वाली रोड का कब होगा कायाकल्प ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |     शिशु मृत्यु दर मे कमी लाने समीक्षा बैठक हुई संपन्न ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |