# भारत में रिकार्ड ; एक ही दिन में मिले 26000 हजार से ज्यादा मामले ## भारत में कोरोना का कुल आकड़ा 822,603 # वहीँ 516,206 मरीज ठीक हुए,तो वहीँ 22,144 लोगों की हुई मौत # # भारत विश्व में कोरोना के चपेट में पंहुचा तीसरे नंबर पर ये बढ़ता आकड़ा, डराने वाला है # वही रिकवर मरीजों की संख्या भारत में बेहतर ##

Post 5

पुलिस की मिली भगत से दुर्घटना ग्रस्त गाड़ी थाने की जगह गैराज मे ( आशुतोष सिंह की रिपोर्ट )

Post 1

बीते दिनों 26 फरवरी को बस क्रमांक एमपी 18 पी 1055 जिसका परमिट बाजाग से अनूपपुर के लिये स्वीकृत किया गया था। वह यात्री बस थाना करनपठार के करपा रोड मे दुर्घटना का शिकार हो गई और बस मे सवार तेरह यात्री घायल हुये जिसमे 03 लोगो की हालत गंभीर बनी हुई थी जिन्हे जिला चिकित्सालय रेफर किया गया था शेष घायल यात्रियों को समुदायिक स्वास्थय केन्द्र राजेन्द्रग्राम मे उपचार हेतु रखा गया था। यहां आश्चर्य कर देने वाली बात सामने आई है कि दुर्घटना ग्रस्त बस जिसे नियमानुसार दुर्घटना पश्चात निकटतम थाने मे खड़ा होना चाहिये वह बस थाना प्रभारी की लचर व्यवस्था य सहमति से वाहन मालिक के घर 90 किमी दूर शहडोल मे घटना के दूसरे दिन ही पहुंच गई और थाना प्रभारी ने 289, 337 की धारा लगाकर कागजी खाना पूर्ति पूरी कर ली है। बस का थाने की जगह मोटर मालिक के घर पहुंचना करनपठार थाना प्रभारी के कार्यप्रणाली पर सवालिया निसान लगा रहे है।

यह है मामला

वाहन मालिक शमशाद अली पिता मो. अली निवासी शहडोल की बस जो बीते दिनांक 26 फरवरी को दुर्घटना का शिकार हो गई थी और तेरह यात्री अपने गंतव्य की जगह अस्पताल आकस्मिक रुप से पहुंच गये थे। इस बस का परमिट बजाग से बेनीबारी, बेलडोंगरी, राजेन्द्रग्राम के रास्ते अनूपपुर के लिये स्वीकृत किया गया है। वहीं घटना दिनांक को एमपी 18 पी 1055 वाहन मालिक शमशाद अली की बस पुलिस और परिवहन विभाग से मिलीभगत कर डिंण्डौरी से बेनीबारी लीला टोला करपा, राजेन्द्रग्राम के रास्ते अनूपपुर की ओर आ रही थी और लीला से करपा के बीच दुर्घटना का शिकार हो गई। दुर्घटना पश्चात् बस करनपठार थाना परिषर की जगह थाना प्रभारी की मूक सहमति से सीधे वाहन मालिक के घर पहुंच गई। और आज दिनांक तक वाहन को थाना परिषर तक नही लाया जा सका।

Post 2

परिवहन विभाग की कार्यप्रणाली भी कटघरे मे

जिले का परिवहन विभाग वैसे भी अपनी कारगुजारी के लिये सुर्ख़ियों मे बना रहता है जिले मे चलने वाले प्रायः सभी बसों का यही आलम है कि परमिट कही का और बसे कही और चल रही है। ताजा मामला एमपी 18 पी 1055 का सामने आया है जिसमे बस का परमिट जिस मार्ग से होते हुये आने जाने का दिया गया है उस मार्ग मे यात्रियों का परिवहन न करते हुये अन्य जगह से चलाई जा रही थी। इतना ही नही स्कूली बसों तक को यात्री बसों की तरह इस्तेमाल किया जाता है ताजा मामला क्षेत्र मे लगने वाले अमरकण्टक मेले मे स्कूली बसों से यात्रियों का परिवहन होते हुये देखा जा सकता है। इस तरह का कार्य परिवहन विभाग की सुस्ती य मिली भगत से ही संभव हो सकता है।

इनका कहना है

मै अभी मेले ड्यूटी मे हूं विवेचक से बात कर बताउंगा यदि बिना बताये बस वाहन मालिक द्वारा ले जाया गया है तो 184 की धारा की तहत कार्यवाही की जायेगी।
सोने सिंह परस्ते
थाना प्रभारी करनपठार

Post 4
Post 2
Post 3

Leave A Reply

Your email address will not be published.

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- +919424776498

सचिव रोजगार सहायक और सरपंच की मिलीभगत से पंचायत का हुआ बंटाधार (अनिल दुबे की रिपोर्ट)     |     ग्राम पंचायत जीलंग सचिव, रोजगार सहायक हितग्राहियों से प्रधानमंत्री आवास का लाभ दिलाने के नाम पर कर रहे है अवैध वसूली -(पूरन चंदेल की रिपोर्ट- )     |     पट्टे की भूमि पर लगी धान की फसल में सरपंच/सचिव/रोजगार सहायक करा दिए वृक्षारोपण (पूरन चंदेल की रिपोर्ट)      |     ग्राम पंचायत किरगी के नाली निर्माण भ्रस्टाचार की फिर खुली पोल {मनीष अग्रवाल की रिपोर्ट}     |     ओवरलोडिंग से सड़कों की हो रही खस्ताहाल ट्रक ट्रेलर मोटर मालिक हो रहे मालामाल {वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की रिपोर्ट}     |     क्या यहाँ ? इंसान की जगह आवारा कुत्तो को किया जाता है भर्ती {पुष्पेन्द्र रजक की रिपोर्ट}     |     कमिश्नर को दिया आवेदन पत्र, दुकानदार के कहने पर की थी शिकायत (रमेश तिवारी की रिपोर्ट))     |     युवा अपनी ऊर्जा सकारात्मक कार्यों में लगाएँ, सोशल मीडिया का करें सदुपयोग- कलेक्टर     |     अनुपपुर जिले में आगामी रविवार को नही रहेगा पूर्ण लॉकडाउन (अनिल दुबे की रिपोर्ट)     |     धार्मिक स्थलों में ना करें सामूहिक पूजा- बिसाहूलाल सिंह (अनिल दुबे की रिपोर्ट)     |