# मुख्यमंत्री सीएम शिवराज सिंह का हुआ आगमन ##

Post 5

पुष्पराजगढ़ के ज्वलन्त समस्या का निदान आखिरकार कौन करेगा ? ( वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से )

Post 1

पुष्पराजगढ़:-

राजेन्दग्राम अनूपपुर जिले के सबसे पिछड़ा आदिवासियों का बाहुल्य क्षेत्र पुष्पराजगढ़ जिसकी आबादी लगभग दो लाख पहुंच चुकी है इस क्षेत्र का भौगोलिक क्षेत्रफल 1764 किमी क्षेत्र पर आधारित है जहां कुल गांव 273 है आबाद गांव 267 है जिनमे बैगा, भारिया, भूमिया एवं इत्यादिक संख्या गोड़ जाति के साथ अन्य तबके के लोग भी निवासरत है। वहीं इस क्षेत्र मे रहने वाले निवासरत लोग अपने विभिन्न तरीको से रोजी रोटी कमाकर उदर पालन पोषण करते चले आ रहे है। इस पिछड़े आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र मे कोई उद्योग कारखाने नही है। यह क्षेत्र पूरी तरह से कृषि कार्य पर आधारित है जिसके चलते लोग अपना जीवन उपार्जन करते है यहां मात्र एक बाक्साइड खदान कुछ वर्ष पूर्व खुली हुई है जहां लोग अपना रोजी रोटी परिश्रम कर कमाते है किन्तु समुचित मजदूरी उन्हे प्राप्त नही हो पाती है परिश्रम के मजदूरी का फायदा बाक्साइड खनन करने वाली कम्पनी उठाती है बाकसाइड खनन होने से क्षेत्र का जल स्तर जहां नीचे खिसक गया है वहीं बहगड़ नाम से प्रचलित गणेश आश्रम प्रांगण से बहने वाला जल जो अपनी दिनचर्या मे बहता रहा है वह बहती धार जल की अब बंद हो चुकी है। 
Post 2
पुष्पराजगढ़ इस आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र का मुख्यालय कार्यालय है।
जिसका श्रेय पूर्व केन्द्रीय मंत्री विकास पुरुष स्व. दलबीर सिंह है 
नर्मदा नगरी के अंचल मे बसा पुष्पराजगढ़ आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र जिसका मुख्यालय पुष्पराजगढ़ कहा जाता है जहां विकास के आयामों को सृजन करने के लिये विभिन्न कार्यालय स्थापित है। जिसका श्रेय पूर्व केन्द्रीय मंत्री विकास पुरुष स्व. दलबीर सिंह का है जिन्होने अपने जनपद अध्यक्ष विधायक/सांसद केन्द्रीय मंत्री पदों मे रहकर अपना योगदान विकास के रुप मे स्थापित किया इस लिये कि यह आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र है यहां विभिन्न कार्यालयों के माध्यम से क्षेत्र के आदिवासी तबकों को विकास के रुप मे एक नई उर्जा का संचार होगा जो लोग नई उर्जा का संचार कर अपने जीवन उपयेागी पथ पर अग्रसर हो चलेगे जिसके चलते विकास पुरुष स्व. दलबीर सिंह ने मुख्यालय पुष्पराजगढ़ पर भारत के प्रथम राष्ट्रपति डा. राजेन्द्र प्रसाद सिंह के नाम पर बसे राजेन्द्रग्राम मे विभिन्न कार्यालयोें का आगाज किया जहां तहसील तो थी एसडीएम कार्यालय, व्यवहार न्यायलय, भूमि संरक्षण कार्यालय, वन परिक्षेत्र के साथ लोक स्वस्थय, यांत्रिकी विभाग, कृषि विभाग एवं एकीकृत परियोजना कार्यालय, बालविकास के साथ उप स्वास्थय केन्द्र से सामुदायिक स्वास्थय केन्द्र लोक निर्माण विभाग उप संभाग का कार्यालय के साथ सैक्षणिक संस्थाओं पर इस क्षेत्र को शिक्षा के क्षेत्र मे स्वावलम्बी बनाने मे योगदान दिया जहां अमरकण्टक पवित्र नगरी मे नवोदय विद्यालय, कन्या क्रीणा परिषर, पुष्पराजगढ़ मे कन्या शिक्षा परिषर, महाविद्यालय तथा शहडोल लोकसभा के मुख्यालय पर रेडियो स्टेशनपाली थर्मश पाॅवर हाउस, मुख्यालय शहडोल मे बीमा कार्यालय  के साथ शहडोल लोकसभा मे कृषि को बढ़ावा देने हेतु क्षेत्र मे बड़े बड़े बांधों का निर्माण छोटे स्टापडेमो के निर्माण की सौगात दिया। जहां पर लोग कृषि कार्य पर आधारित अपना कृषि कार्य कर खेती का कार्य कर सके। जो स्व. सिंह का किया गया विकास भुलाया नही जा सकता वहीं लाखों करोणों के आबंटन के बाद विकास की रुपरेखा से आखिर कार क्यूं वंचित है आदिवासी जनजाति के लोग ?
एकीकृत आदिवासी परियोजना पुष्पराजगढ़ मे करोड़ों लाखों के आंवटित बजट के बाद विकास की धूरी के पहुंच से दूर है आदिवासी जनजाति  के लोग।
पुष्पराजगढ़ मुख्यालय परिषर पर स्थापित एकीकृत आदिवासी परियोजना पुष्पराजगढ़ जहां प्रति वर्ष आदिवासी जनजाति के पिछडे़ लोगों को उनके विकास एवं उत्थान  के लिये करोणों रुपये विभिन्न मदो मे आवंटित होते है आवंटित बजट राशि को उनके तक पहुचने मे 70 साल तो व्यतीत हो चुके किन्तु अभी तक उनका उत्थान सबसे पिछड़ी जाति बैगा जनजाति का नही हो सका शायद और 70 साल न जाये कुछ कहा नही जा सकता। 
जहां पुष्पराजगढ़ मुख्यालय पर संचालित एकीकृत आदिवासी परियोजना से तकरीबन 10 किमी दूर ग्राम पंचायत मझगवां का टोला बैगा ग्राम भाटीबहरा है जहां आज तक शासन की विकास की किरण नही पहुंच पाई जहां भारत के प्रधानमंत्री माननीय नरेन्द्र मोदी जी के घोषणा के बाद ग्राम पंचायत मंझगंवा के टोला बैगा जनजाति आदिवासी समुदाय 70 घर की बस्ते वाले लोगो को प्रधानमंत्री आवास योजना मिलना दुरासत है वहीं उपरोक्त टोला मे प्रकाश की किरण मिलने वाली बिजली जैसे महत्वकांक्षी योजना उपरोक्त टोले से कोसों दूर दिखाई देती है वहीं उन्हे स्वच्छ सुुन्दर ठंडाजल ग्रहण करने को हैण्डपंप जैसे योजना उन्हे आजतक न उपलब्ध हो पाना भारत देश मे बसा ग्राम भाटीबहरा (टोला) योजनाओं से श्रापित ग्राम कहा जा सकता है। ऐसे मे उपरोक्त ग्राम के आदिवासी बैगा जनजाति के लोग किस तरह से अपनी प्यास बुझाते होगें किस तरह अपना जीवन यापन मात्र एक शासकीय तालाब कुंआ माध्यम से करते होंगे यह एक सोचनीय विषय बिन्दु है जहां आज तक शासन प्रशासन एवं जनप्रतिनिधियों का जागरुक तबका उपरोक्त ग्राम के टोला मे अपनी उपस्थिति दर्ज नही करा सका। आखिरकार टोला भाटीबहरा ग्राम पंचायत मंझगंवा के विकास की जगह विनास की जिम्मेदारी किसकी है ? वहीं कहने को पुष्पराजगढ़ मुख्यालय परिषर पर सामूहिक जल प्रदाय योजना के माध्यम से 51 ग्राम स्वच्छ जल पहुंचाने का बीड़ा उठाया गया है जहां लगभग  उपरोक्त ग्रामों मे जल की अपूर्ति की जा रही है। वहीं 51 ग्रामों मे ग्राम पंचायत मंझगंवा जनपद पंचायत पुष्पराजगढ़ मे समायोजित है किन्तु मझगवां ग्राम पंचायत क टोला ग्राम भाटी बहरा मे आखिरकार सामूहिक जल प्रदाय का पानी क्यूं नही पहुंचाया गया ? जो रहस्य मयी प्रश्न बना हुआ है ? आखिरकार उपरोक्त समस्याओं का निदान करने किसकी जिम्मेदारी है कौन जिम्मेदार है जबकि पुष्पराजगढ़ क्षेत्र मे क्षेत्रीय विधायक है ग्राम पंचायत मे चुने सरपंच है जनपद पंचायत मे जनपद अध्यक्ष है वहीं एकीकृत आदिवासी परियोजना समिति के पदेन अध्यक्ष क्षेत्रीय विधायक है इन सब के रहते ये भी आखिर कार ग्राम पंचायत मझंगंवा के टोला भाटीबहरा ग्राम के आदिवासी बैगा जनजाति के लोग विकाससील महत्वपूर्ण योजनाओं से क्यों वंचित है ?
Post 4
Post 2
Post 3

Leave A Reply

Your email address will not be published.

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- +919424776498

नौकरशाहों द्वारा मौलिक अधिकारों का हनन कलेक्टर को सौपा ज्ञापन     |     जांच के बाद भी नहीं हुई कार्यवाही जांच समिति द्वारा 7. 82 लाख की निकाली गई थी वसूली (रमेश तिवारी की रिपोर्ट)     |     जल संसाधन विभाग की 3 करोड 11 लाख की नहर छतिग्रस्त, टूटी नहर से कैसे पहुंचे खेतों में पानी किसान परेशान{रमेश तिवारी की रिपोर्ट}     |     खंडहर से उजाला…. गरीबों का मजाक तो नही…??@अनिल दुबे9424776498     |     एसडीएम की बात बीएमओ के कान का जूं……..@अनिल दुबे9424776498     |     खनन निगम रीवा द्वारा की गई जांच परसेल कला एवं हर्रा टोला क्रेशर की जांच मामला लीज से अधिक भूभाग पर उत्खनन का (रमेश तिवारी की रिपोर्ट)     |     सतर्कता ही हमारी पहचान कोरोना का खतरा अभी टला नही है, लखन रजक@अनिल दुबे9424776498     |     नोंनघटी मोड़ में बाइक सवार की टैक्टर से हुई भिड़ंत@अनिल दुबे 9424776498     |     हृदय विदारक घटना में 3 जिन्दा जले 1 फांसी पर झूला 1 की हालत नाजुक     |     अमरकंटक मे अवैध सट्टे को लेकर अमरकंटक वासियों ने हिमाद्रि सिंह को सौंपा ज्ञापन@अनिल दुबे9424776498     |