# भारत में रिकार्ड ; एक ही दिन में मिले 26000 हजार से ज्यादा मामले ## भारत में कोरोना का कुल आकड़ा 822,603 # वहीँ 516,206 मरीज ठीक हुए,तो वहीँ 22,144 लोगों की हुई मौत # # भारत विश्व में कोरोना के चपेट में पंहुचा तीसरे नंबर पर ये बढ़ता आकड़ा, डराने वाला है # वही रिकवर मरीजों की संख्या भारत में बेहतर ##

Post 5

किसान मोबाइल संदेश सेवा से त्वरित पहुंच रहे खेती संबंधी उपयोगी संदेश (अनिल दुबे की रिपोर्ट)

Post 1

अनूपपुर।

मौसम संबंधी सामयिक सूचनाओं ने किसानों को दी राहत, उत्पादन को नुकसान से बचा रहे विशेषज्ञों से सीधे बात कर खेती की चुनौतियों को कर रहे वैज्ञानिक विधि से हल इंदिरा गांधी राष्ट्रीय जनजातीय विश्वविद्यालय स्थित कृषि विज्ञान केंद्र के तत्वावधान में चल रही किसान मोबाइल संदेश सेवा किसानों को त्वरित संदेश पहुंचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है। हाल ही में मौसम में आए बदलावों को समय पर किसानों तक पहुंचाकर इस सेवा ने कई किसानों के उत्पादन को खराब होने से बचा लिया। यह सेवा मौसम के साथ खेती में बरती जाने वाली विभिन्न सावधानियों के बारे में भी सरल भाषा में संदेश पहुंचाकर किसानों की उन्नति में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है।

मोबाइल संदेश सेवा की लोकप्रियता

Post 2

किसान मोबाइल संदेश सेवा की लोकप्रियता का अंदाज इसी बात से लगाया जा सकता है कि पिछले वर्ष जुलाई में शुरू करने के बाद से अब तक इसमें 11329 किसान जुड़ चुके हैं। यह किसान चार विकासखंडों के 491 गांवों में फैले हुए हैं। किसानों के लिए यह सेवा पूरी तरह से निःशुल्क है। इस सेवा के केंद्र में केवीके के विशेषज्ञ होते हैं जो भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के देशभर में फैले सेंटर्स और संस्थानों के विशेषज्ञों से बातचीत कर मौसम संबंधी चेतावनियों और भविष्यवाणियों, मौसम के अनुरूप की जा सकने वाली खेती, खेती से पूर्व और बाद में बरती जाने वाली सावधानियां, उत्पादन का बाजार जैसी महत्वपूर्ण जानकारियां सीधे किसानों तक पहुंचाते हैं।

संदेश में ये बाते रहती हैं प्रमुख

संदीप चैहान, एसएमएस (कृषि प्रसार) ने बताया कि सेवा के माध्यम से फसलों की बुवाई के लिए खेती की तैयारी, कटाई एवं बुवाई उपरांत प्रसंस्करण संबंधी संदेश, खाद प्रबंधन, समन्वित कृषि प्रणाली, कृषि विविधीकरण, मृदा स्वास्थ्य प्रबंधन, जैविक खेती, सब्जी एवं बागवानी फसलों की खेती, बाजार भाव और कृषि वानिकी संबंधी संदेश भेजे जाते हैं। केवीके के प्रमुख डॉ. एस.के. पांडे ने बताया कि संदेश के साथ ही किसान अपनी जिज्ञासाओं को केवीके के कृषि विशेषज्ञों से सीधे बात कर शांत कर रहे हैं। इसके अलावा व्हाट्सएप के माध्यम से भी किसान अपनी खेती की चुनौतियों को कृषि विशेषज्ञों के साथ साझा कर निःशुल्क राय प्राप्त करते हैं। उन्होंने बताया कि इसके सकरात्मक परिणाम भी सामने आ रहे हैं।

इन्हें मिल चुका है लाभ

दिसंबर में मौसम खराब होने की सूचना समय पर इस सेवा के माध्यम से प्रसारित कर दी गई थी जिससे ग्राम किरगाही के किसान रामकुशल ने स्वयं के 16 कुंटल धान को समय रहते सुरक्षित स्थान पर पहुंचा दिया। इससे धान भीगने से बच गया। इसके साथ ही गेहूं की फसल में एक सिंचाई के पानी को भी उन्होंने बचा लिया। उन्होंने सामयिक सूचना के लिए केवीके के विशेषज्ञों को व्यक्तिगत धन्यवाद भी दिया।

ऐसे ले सकते हैं किसान सेवा का लाभ

डॉ. पांडे ने बताया कि किसान इस सेवा से जुड़ने के लिए मोबाइल नंबर 9691241215 पर संदेश भेज सकते हैं या केवीके के कार्यालय में आकर स्वयं को पंजीकृत करवा सकते हैं। इसके लिए किसानों को स्वयं का नाम, पिता या पति का नाम, ग्राम, विकासखंड, फसल रूचि और कृषक रूचि जैसी प्रारंभिक जानकारी प्रदान करनी होगी। किसान संदेश सेवा के तहत अभी तक 39 संदेश किसानों को भेजे जा चुके हैं।

Post 4
Post 2
Post 3

Leave A Reply

Your email address will not be published.

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- +919424776498

सचिव रोजगार सहायक और सरपंच की मिलीभगत से पंचायत का हुआ बंटाधार (अनिल दुबे की रिपोर्ट)     |     ग्राम पंचायत जीलंग सचिव, रोजगार सहायक हितग्राहियों से प्रधानमंत्री आवास का लाभ दिलाने के नाम पर कर रहे है अवैध वसूली -(पूरन चंदेल की रिपोर्ट- )     |     पट्टे की भूमि पर लगी धान की फसल में सरपंच/सचिव/रोजगार सहायक करा दिए वृक्षारोपण (पूरन चंदेल की रिपोर्ट)      |     ग्राम पंचायत किरगी के नाली निर्माण भ्रस्टाचार की फिर खुली पोल {मनीष अग्रवाल की रिपोर्ट}     |     ओवरलोडिंग से सड़कों की हो रही खस्ताहाल ट्रक ट्रेलर मोटर मालिक हो रहे मालामाल {वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की रिपोर्ट}     |     क्या यहाँ ? इंसान की जगह आवारा कुत्तो को किया जाता है भर्ती {पुष्पेन्द्र रजक की रिपोर्ट}     |     कमिश्नर को दिया आवेदन पत्र, दुकानदार के कहने पर की थी शिकायत (रमेश तिवारी की रिपोर्ट))     |     युवा अपनी ऊर्जा सकारात्मक कार्यों में लगाएँ, सोशल मीडिया का करें सदुपयोग- कलेक्टर     |     अनुपपुर जिले में आगामी रविवार को नही रहेगा पूर्ण लॉकडाउन (अनिल दुबे की रिपोर्ट)     |     धार्मिक स्थलों में ना करें सामूहिक पूजा- बिसाहूलाल सिंह (अनिल दुबे की रिपोर्ट)     |