# मुख्यमंत्री सीएम शिवराज सिंह का हुआ आगमन ##

Post 5

नही थम रहा आदर्श पंचायतों मे भ्रष्टाचार का सिलसिला ( पूरन चंदेल की रिपोर्ट )

Post 1

सीसी रोड, शौचालय, पुलिया, प्रधानमंत्री आवास सहित सभी कामों मे चल रही खुले आम लूट

इन्ट्रो- भ्रष्टाचार का पर्याय बन चुके सरकारी मशीनरी कमीशन के खेल मे नियम कायदे कानूनों की धज्जियां उडाने से बाज नही आ रहा है। जिले के पांच आदर्श ग्राम पंचायतों मे से एक ग्राम पंचायत बहपुर अंतर्गत आने वाले ग्राम बेलगवां मे इसकी बानगी पुलिया निर्माण मे गुणवत्ता हीन कार्य के रुप मे देखी जा सकती है। जहां तय मापदण्डों को दरकिनार कर मनमानी निर्माण कार्य का सिलसिला बेदस्तूर जारी है।

अनूपपुर। प्रदेश की सरकार बदली पर सरकारी मशीनरी का भ्रष्टाचार का सिलसिला नही बदला। और न ही उपर से नीचे तक कमीशन का खेल ही बदल सका। बहरहाल यह सरकार को तय करना है किन्तु अंतिम छोर पर बसने वाले ग्रामीण इसकी सजा गुणवत्ता हीन निर्माण कार्यों के रुप मे भुगतने को मजबूर है। ऐसा नही कि इन बातों की जानकारी उच्च अधिकारियों को नही है उन तक ग्रामीणोें ने ढेरो शिकायत पत्रों के माध्यम से यथास्थिति से अवगत कराने का प्रयास किया है। किन्तु ढीली और लचर प्रशासनिक तंत्र आज भी गुणवत्ता युक्त कार्य कराने मे नाकाम ही साबित हो रहा है।

Post 2

ड्राॅईंग, स्टीमेट के मापदंडो पर नही हो रहा कार्य

ग्राम पंचायत बहपुर के ग्राम बेलगवां मे सरपंच के बताये अनुसार आदर्श ग्राम पंचायत के लिये आवंटित राशि के शेष बचे 6,00000 रुपये की लागत से पुलिया का निर्माण कार्य कराया जा रहा है। जो अपनी हकीकत खुद ही बयां कर रही है। स्टीमेट मे जहां 16 एमएम सरिया का इस्तेमाल के साथ 20 एमएम स्टोन मटेरियल की बात का उल्लेख है वही उक्त निर्माण कार्य मे 40 एमएम गिट्टी का उपयोग खुुले आम किया जा रहा है जबकि 16 एमएम की सरिया का कोई अतापता नही है। उक्त पुलिया की छत मे आरसीसी 1ः2ः4 के साथ 20 एमएम गिट्टी के साथ बनाया जाना है वहीं पुलिया का फाउंडेशन 1ः3ः6 के साथ 40 एमएम की गिट्टी डाली जानी है। यह सब बाते स्टीमेट मे महज लिखी मात्र है। जबकि हकीकत इससे कोसो दूर है। यहां 20 एमएम की जगह स्टोन, वेस्ट मटेरियल जिसे चिप्स के नाम से जाना जाता है। का खुलेआम इस्तेमाल किया जा रहा है जानकारो की माने तो चिप्स का इस्तेमाल छत आदि निर्माण कार्यो मे पूर्णतः वर्जित है।

जिले की पांच आदर्श ग्राम पंचायते

अनूपपुर जिले अंतर्गत पुष्पराजगढ़ जनपद मे आने वाली पांच ग्राम पंचायतों को बिगत दो वर्ष पूर्व आदर्श ग्राम पंचायत घोषित किया गया था। तब भारत सरकार के तात्कालीन उप सचिव ने बकायदा इन पंचायतों का दौरा किया था। और नियमों की कसौटी मे कसकर इन्हे जिले के आदर्श ग्राम पंचायतों का दर्जा दिया गया था। दूसरे शब्दों मे यदि इन्हे प्रधानमंत्री के चुनिंदा ग्राम पंचायत कहे तो अतिशयोक्ति नही होगी। लेकिन वास्तविकता इन पांच ग्राम पंचायतों मे कुछ अलग ही कहानी बयां करती है। जबकि आदर्श ग्राम पंचायतों मे बुनियादी सुविधायें जैसे पानी, आवास, शौचालय, सड़क, बिजली के साथ सभी जरुरी सुविधा उपलब्ध कराना प्रशासन की जवाबदेही होती है। और सरकार इन पंचायतो को अतिरिक्त धन राशि विकास कार्य हेतु आवंटित करती है। लेकिन भ्रष्ट प्रशासनिक तंत्र इन राशियों का गबन और बंदरबांट करने से पीछे नही रहता है।

अधिकारी कर्मचारियो ने आदर्श पंचायतों को किया लिंगारान

सुस्त और लचर प्रशासनिक व्यवस्था का परिणाम प्रधानमंत्री की एक प्रकार से गोद ली हुई आदर्श ग्राम पंचायते अपनी व्यथा के आंसू खुद ही बहा के बयां कर रही है। वहीं जनपद के आला अधिकारी चुने गये जन प्रतिनिधि अपनी निष्क्रियता का परिचय भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ रहे निर्माण कार्यों के रुप मे दे रहे है। जब चुनिंदा पांच ग्राम पंचायत बहपुर, जरही, उमनिया, करौंदी, बेलगंवा जो आदर्श ग्राम पंचायत के तगमे से नवाजे जा चुके है। उनका यह हाल है तब अन्य जिले अंतर्गत आने वाले पंचायतों की स्थिति का अंदाजा सहज ही लगाया जा सकता है।

इनका कहना है

निर्माण कार्य ठोस रुप से कराया जा रहा है। मै कल ही उक्त ग्राम पंचायत के निर्माण स्थल मे उपस्थित रहा मुझे किसी प्रकार की कमी दिखाई नही दी।
राजेश शर्मा
उपयंत्री
जनपद पंचायत पुष्पराजगढ़

हमने आज तक इसी गिट्टी का उपयोग कर निर्माण कार्य कराया है। लेकिन बात मीडिया मे आने पर इंजीनियर द्वारा उक्त चिप्स गिट्टी का इस्तेमाल करने से मना किया गया है।
शंकर सिंह
सरपंच
ग्राम पंचायत बहपुर

मेरे पास 7,579 काम पेंडिंग पड़ा है मै अभी कुछ नही बता पाउंगा
सीईओ पुष्पराजगढ़
रंजीत सिंह रघुवंशी

Post 4
Post 2
Post 3

Leave A Reply

Your email address will not be published.

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- +919424776498

फर्जी बिल लगाने के बादशाह निकले…….गुप्ता     |     सी.एम. हेल्पलाइन की लंबित शिकायतों का निराकरण ना करने वाले अफसरों का वेतन आहरण नहीं होगा@अनिल दुबे9424776498     |     प्रक्रिया का पालन करें पंचायतें, टेंडर से हो खरीदी फर्जी बिल पर लगेगा अंकुश…….यदुवंश दुबे ने व्यक्त किये अपने विचार@आसुतोष सिंह     |     बस वाहन चालक यात्रियों के जेब मे डाल रहे डाका ( वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से )     |     पशु चिकित्सालय के अस्तित्व पर खतरा ( वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से )     |     बिना कनेक्शन पहुंचा बिजली बिल, आश्रम को लगा करेंट का झटका (वरिस्ट पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से)     |     पुष्पराजगढ़ विधायक फुंदेलाल मार्को द्वारा दसवें उप स्वास्थ्य केंद्र भवन का किया भूमि पूजन ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |     जनपद पंचायत पुष्पराजगढ़ मे समीक्षा बैठक का हुआ आयोजन ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |     पटना लांघाटोला से करपा जाने वाली रोड का कब होगा कायाकल्प ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |     शिशु मृत्यु दर मे कमी लाने समीक्षा बैठक हुई संपन्न ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |