# मुख्यमंत्री सीएम शिवराज सिंह का हुआ आगमन ##

Post 5

फैल रहा है तेजी से यह जानलेवा रोग :Colorectal Cancer

Post 1

देश के युवाओं में आरामतलब जीवनशैली और खानपान में आई तब्दीली की वजह से गुदा के कैंसर के मामलों में तेजी से इजाफा हुआ है। एक शोध अध्ययन की रिपोर्ट के मुताबिक फिलहाल 50 से 75 हजार तक युवा इस बीमारी की चपेट में हैं। ग्लोबकैनइंडिया 2018 में प्रकाशित आंकड़ों के मुताबिक हाल ही में गुदा कैंसर के 27 हजार नए केसेस रजिस्टर हुए हैं। गुदा के कैंसर से पिछले वर्ष 20 हजार मरीजों की मौत हो चुकी है।

डाइजेस्टिव सिस्टम में आंत का अंतिम हिस्सा ( कोलन) और गुदा (रैक्टम) महत्वपूर्ण अंग माने जाते हैं। आंतों के अंतिम हिस्से में मल से पानी सोखा जाता है तथा मल को स्टोर करके रखा जाता है। जब बॉवेल मूवमेंट शुरू होते हैं तब मल बाहर निकाल दिया जाता है। इस मामले में डायरेक्टर सर्जिकल ऑंन्कोलॉजी, मैक्स सुपर स्पेशलिटी अस्पताल, नईदिल्ली के वरिष्ठ चिकित्सकअरूण गोयल ने बताया कि गुदा का कैंसर पहले 50 साल की उम्र के बाद ही मरीजों में पाया जाता था लेकिन अब ऐसा नहीं है।

हर कैंसर की तरह इसकी पहचान भी जल्दी हर कैंसर की तरह गुदा के कैंसर की पहचान जितनी जल्दी होगी, इलाज में भी सफलता भी उसी दर से हासिल होगी। 44 महिलाओं और पुरूषों में गुदा का कैंसर तीसरा जानलेवा हत्यारा साबित हुआ है। इसके लिए खराब जीवनशैली को जिम्मेदार माना जा रहा है। जल्दी से जल्दी इलाज करने और लाइफस्टाइल में सख्ती से परिवर्तन करने से ही दोबारा यह बीमारी नहीं होगी। शरीर का आदर्श वजन बनाए रखें। वजन बढ़ने न दें। भोजन में रेशेदार आहार को नियमित रूप से शामिल करें।

Post 2

क्यों होता है गुदा का कैंसर 

खराबआदतें खानपान की कई अध्ययनों से जाहिर हुआ है कि जो लोग रेशे रहित तथा अधिक फैट वाला भोजन लंबे समय तक लगातार करते रहते हैं उनमें गुदा के कैंसर होने की आशंका सबसे अधिक होती है। युवा कार्पोरेट कर्मचारियों और प्रोफेशनल्स में पाश्चात्य देशों की खराब जीवनशैली तेजी से घर करती जा रही है। पाश्चात्य भोजनशैली में फायबर की मात्रा कम होती है तथा फैट और कैलोरीज भी अधिक मात्रा में होती है। उन लोगों का जोखिम दो गुना बढ़ जाता है जो रेड और प्रोसेस्ड मीट खाते हैं। शारीरिक आरामतलबी जो लोग शारीरिक गतिविधियां कम से कम करते हैं उन्हें गुदा का कैंसर होने की आशंका दूसरों के मुकाबले अधिक होती है।

टेबल वर्क करने वालों को हर सप्ताह में 5 से 6 घंटे एक्सरसाइज करने की सलाह दी जाती है। जो लोग ऐसा नहीं करते हैं उन्हें गुदा का कैंसर होने की आशंका ज्यादा है। खराब जीवनशैली मोटापा और डायबिटीज न केवल गुदा का कैंसर होने की आशंका बढ़ा देते हैं बल्कि दूसरी बीमारियों को भी न्यौता देते हैं। मोटापा और शुगर पर नियंत्रण रखने से शरीर की कई दूसरी बीमारियों को भी दूर रखा जा सकता है।

जीवनशैली में सुधार करके मोटापे के साथ-साथ शुगर पर भी कंट्रोल करें। मोटापे को दूर करके शुगर को भी आसानी से नियंत्रित किया जा सकता है। अनियंत्रित शराबखोरी, धूम्रपान जो लोग बेहताशा शराबखोरी करते हैं साथ ही धूम्रपान भी सामान्य से अधिक करते हैं उन्हें गुदा का कैंसर होने के अवसर दूसरों की तुलना में ज्यादा होते हैं। 25 से 35 साल की आयु के युवा इन दिनों शराब और धूम्रपान दोनों ही आदतों को पाले हुए हैं। शराब और धूम्रपान की लत उन्हें रोज बीमारी की ओर धकेल रही है।

क्या है इलाज 

गुदा के कैंसर की पहचान जितनी जल्दी होगी उतने ही मरीज के ठीक होने के अवसर बढ़ जाएंगे। आधुनिक टारगेटेड कैंसर थेरेपी और सर्जरी के साथ कीमो थेरेपी तथा बाद में रेडियोथेरेपी से मरीज को नई जिंदगी मिल जाती है। कोलोनोस्कोपी से कैंसर की गठानों को निकाला जाता है। मरीज की उम्र और स्वास्थ को देखते हुए लैप्रोस्कोपिक सर्जरी की सलाह दी जाती है। किसी भी तरह के बड़े चीरे को अवाइड किया जाता है।

इन लक्षणों पर रखें नजर :

थकान, कमजोरी, सांस उखड़ना, समय असमय मलत्याग, दस्त लगना अथवा कब्ज बने रहना, मल के साथ खून निकलना, एकाएक वजन कम हो जाने के साथ पेट में मरोड़े उठना, अक्सर अफरा महसूस होना यद्यपि ये सभी लक्षण बदहजमी के भी हो सकते हैं लेकिन कोलन कैंसर की आशंकाओं को भी जांचों के जरिए दूर कर लेना चाहिए।
Post 4
Post 2
Post 3

Leave A Reply

Your email address will not be published.

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- +919424776498

फर्जी बिल लगाने के बादशाह निकले…….गुप्ता     |     सी.एम. हेल्पलाइन की लंबित शिकायतों का निराकरण ना करने वाले अफसरों का वेतन आहरण नहीं होगा@अनिल दुबे9424776498     |     प्रक्रिया का पालन करें पंचायतें, टेंडर से हो खरीदी फर्जी बिल पर लगेगा अंकुश…….यदुवंश दुबे ने व्यक्त किये अपने विचार@आसुतोष सिंह     |     बस वाहन चालक यात्रियों के जेब मे डाल रहे डाका ( वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से )     |     पशु चिकित्सालय के अस्तित्व पर खतरा ( वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से )     |     बिना कनेक्शन पहुंचा बिजली बिल, आश्रम को लगा करेंट का झटका (वरिस्ट पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से)     |     पुष्पराजगढ़ विधायक फुंदेलाल मार्को द्वारा दसवें उप स्वास्थ्य केंद्र भवन का किया भूमि पूजन ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |     जनपद पंचायत पुष्पराजगढ़ मे समीक्षा बैठक का हुआ आयोजन ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |     पटना लांघाटोला से करपा जाने वाली रोड का कब होगा कायाकल्प ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |     शिशु मृत्यु दर मे कमी लाने समीक्षा बैठक हुई संपन्न ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |