# मुख्यमंत्री सीएम शिवराज सिंह का हुआ आगमन ##

Post 5

अब अंडे से भी बनेगा पनीर, 8-9 महीने तक नहीं होगा खराब

Post 1

नोएडा,

दिल्ली से सटे नोएडा में स्थित एमिटी विश्वविद्यालय (Amity University) के वैज्ञानिक प्रोफेसर वीके मोदी ने ऐसा पनीर तैयार किया है, जो करीब नौ महीनों तक खराब नहीं होगा। जाहिर है इसको रखने के लिए किसी रेफ्रिजरेटर की भी जरूरत नहीं है। इसको सामान्य तापमान में कमरे में भी रखा जा सकता है।

यहां पर बता दें कि आमतौर पर पनीर दूध से बनाया जाता है, जो तीन से चार दिनों में खराब हो जाता है। इसे अंडों से तैयार किया गया है और इसको नाम दिया गया है ‘सेल्फ स्टेबल एग पनीर’। वैसे तो यह सूखे की अवस्था में हाेता है, लेकिन पानी में डालते ही तीन से चार मिनट में नरम और खाने योग्य हो जाता है। इसकी तकनीक औद्योगिक उत्पादन के लिए ट्रांसफर की जा चुकी है। जल्द ही यह बाजार में उपलब्ध होगा।

Post 2

प्रोफेसर वीके मोदी एमिटी इंस्टीट्यूट ऑफ फूड टेक्नॉलजी में हेड ऑफ इंस्टीट्यूशन हैं। उन्होंने बताया कि आजकल के खाद्य पदार्थों में पर्याप्त मात्रा में पौषक तत्व नहीं मिल पाते। जिन वस्तुओं में होते भी हैं तो वह जल्द खराब हो जाते हैं। दाल, दूध और अंडे में पर्याप्त मात्रा में पौषक तत्व पाए जाते हैं। ऐसे में सोचा कि अंडे से कुछ ऐसी चीज बनाई जाए, जो जल्द खराब नहीं हो।

प्रोफेसर वीके मोदी ने बताया कि इसको बनाने में दो वर्ष लगे। इसे तीन तरह से तैयार किया जाता है। वजन कम करने के शौकीन लोगों के लिए अंडे के सफेद हिस्से से बनाया जाता है। बच्चों के लिए अंडे के पीले से बनाया जाता है। वहीं, सबकुछ खाने वालों के लिए पूरे अंडे से तैयार होता है। अभी 100 किलोग्राम पनीर बनने में एक दिन का समय लगता है। वहीं, अधिक उत्पादन होने पर इसे बनाने में कम समय लगेगा।

 

दूध से बने पनीर से होता है सस्ता

बाजार में मिलने वाले दूध से पनीर की कीमत 300 रुपये प्रति किलोग्राम के आसपास होती है। सेल्फ स्टेबल एग पनीर बाजार में 200 रुपए प्रति किलोग्राम में आसानी से मिल जाएगा। वहीं, औद्योगिक उत्पादन होने पर यह और भी सस्ता मिलने लगेगा।

स्वास्थ्य के लिए है लाभदायक

इसमें किसी भी तरह का रासायनिक पदार्थ नहीं मिलाया गया है। इसे केवल अंडे और फूड वाइंडर्स से तैयार किया गया है। इसमें प्राकृतिक पनीर में पाए जाने वाले सभी तरह के पौषक तत्व हैं। इसके साथ ही अंडे से बने होने के कारण यह शरीर के लिए और भी अधिक फायदेमंद है।

बच्चों के लिए मिड डे मिल के तौर पर किया जा सकता है इस्तेमाल

प्रोफेसर वीके मोदी ने बताया कि आमतौर पर पनीर में पाचन की समस्या आती है। इस पनीर में ऐसा कुछ नहीं है। इसे प्रचूर मात्रा में पौषक तत्व होने के कारण मिड डे मील के तौर पर भी इस्तेमाल किया जा सकता है। इससे सब्जी, सूप, पराठे आदि तैयार किए जा सकते हैं।

Post 4
Post 2
Post 3

Leave A Reply

Your email address will not be published.

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- +919424776498

फर्जी बिल लगाने के बादशाह निकले…….गुप्ता     |     सी.एम. हेल्पलाइन की लंबित शिकायतों का निराकरण ना करने वाले अफसरों का वेतन आहरण नहीं होगा@अनिल दुबे9424776498     |     प्रक्रिया का पालन करें पंचायतें, टेंडर से हो खरीदी फर्जी बिल पर लगेगा अंकुश…….यदुवंश दुबे ने व्यक्त किये अपने विचार@आसुतोष सिंह     |     बस वाहन चालक यात्रियों के जेब मे डाल रहे डाका ( वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से )     |     पशु चिकित्सालय के अस्तित्व पर खतरा ( वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से )     |     बिना कनेक्शन पहुंचा बिजली बिल, आश्रम को लगा करेंट का झटका (वरिस्ट पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से)     |     पुष्पराजगढ़ विधायक फुंदेलाल मार्को द्वारा दसवें उप स्वास्थ्य केंद्र भवन का किया भूमि पूजन ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |     जनपद पंचायत पुष्पराजगढ़ मे समीक्षा बैठक का हुआ आयोजन ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |     पटना लांघाटोला से करपा जाने वाली रोड का कब होगा कायाकल्प ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |     शिशु मृत्यु दर मे कमी लाने समीक्षा बैठक हुई संपन्न ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |