# मुख्यमंत्री सीएम शिवराज सिंह का हुआ आगमन ##

Post 5

भारत में यहां छिपा है कुबेर का खजाना

Post 1

                                 भारत में यहां छिपा है कुबेर का खजाना

भारत के ऐसे कई क्षेत्र हैं जहां हज़ारों करोड़ का खजाना छुपा हुआ होता है। कहीं खंडरों के अदर खजाना छिपे होने की बात होती है तो कहीं झील के अंदर। आज हम आपको उन इलाकों से रु-ब-रु करवाएंगे जहां हजारों का खजाना छिपा हुआ है।

Post 2
नालंदा की गुफा :-
नालंदा में मौजूद सोन भंडार गुफा को सोने को सहेजने के लिए बनाया गया था। यहां चट्टान को काटकर दो कमरे बनवाए गए थे और गुफा के पहले कमरे में सिपाहियों के रुकने की व्यवस्था थी। दूसरे कमरे में खजाना छुपा था। इस कमरे को पत्थर की एक बड़ी चट्टान से ढंका गया है। जिसे आजतक कोई नहीं खोल पाया। कहा जाता है कि अंग्रेजों ने इस गुफा को तोप के गोले से उड़ाने की कोशिश की थी लेकिन वे इसमें नाकामयाब रहे थे।
अलवर का खजाना :-
अलवर जिले के बाला किला के नाम से मशहूर ऐतिहासिक पर्यटन स्थल में बड़ी मात्रा में खजाना छिपा हुआ है जिसको ढूंढना टेढ़ी खीर साबित हो रहा है। खजाना को देखते हुए इस किले पर 24 घंटे पुलिस की निगरानी रहती है और किले के शस्त्रागार और तहखाने को सील कर दिया गया है। और किले के इस हिस्से में किसी भी व्यक्ति को प्रवेश नही करने दिया जाता है।
हैदराबाद का खजाना :-
हैदराबाद में जैकब नाम का हीरा विश्व का सातवां सबसे बड़ा अनकट हीरा है और यह करीब 185 कैरेट का है। यानी दुनिया के सबसे कीमती माने जाने वाले कोहिनूर हीरे से भी आकर और प्रकार मैं दोगुना। इस हीरे को हैदराबाद के छ्ठे निजाम महबूब अली खान के पास एक यहूदी व्यापारी जैकब लेकर आया था। निज़ाम को ये इतना पसंद आया कि उन्होंने इसे तत्काल बिना किसी मोल भाव के खरीद लिया और उसे उसी का नाम देकर अपने पास रख लिया। निजाम के शानों शौकत के प्रतिक कई हीरों और 173 तरह के आभूषणों को साल 1995 में एक समझोते के बाद केंद्र सरकार ने महज 218 करोड़ रूपये में खरीद लिया था। हालांकि इन सभी आभूषणों की कीमत उस वक्त भी करीब 2000 करोड़ रूपये के आस पास थी।
पाटन का खजाना :-
गुजरात के पाटन का भेमोसन अपने आप में 400 साल का इतिहास समेटे हुए है। भेमोसन से डेढ़ किलोमीटर दूर भगवान शिव का मंदिर है, उसी के पास बनी है एक समाधि। पाटन का सोवन परिवार ये दावा करता है कि उनकी तीन-तीन पीढिय़ों ने इसी समाधि के नीचे खजाने दबाया हुआ है। परिवार दावा करता है कि उनके पूर्व इंडोनेशिया और मिस्र से इस खजाने को लाए थे।
Post 4
Post 2
Post 3

Leave A Reply

Your email address will not be published.

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- +919424776498

फर्जी बिल लगाने के बादशाह निकले…….गुप्ता     |     सी.एम. हेल्पलाइन की लंबित शिकायतों का निराकरण ना करने वाले अफसरों का वेतन आहरण नहीं होगा@अनिल दुबे9424776498     |     प्रक्रिया का पालन करें पंचायतें, टेंडर से हो खरीदी फर्जी बिल पर लगेगा अंकुश…….यदुवंश दुबे ने व्यक्त किये अपने विचार@आसुतोष सिंह     |     बस वाहन चालक यात्रियों के जेब मे डाल रहे डाका ( वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से )     |     पशु चिकित्सालय के अस्तित्व पर खतरा ( वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से )     |     बिना कनेक्शन पहुंचा बिजली बिल, आश्रम को लगा करेंट का झटका (वरिस्ट पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से)     |     पुष्पराजगढ़ विधायक फुंदेलाल मार्को द्वारा दसवें उप स्वास्थ्य केंद्र भवन का किया भूमि पूजन ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |     जनपद पंचायत पुष्पराजगढ़ मे समीक्षा बैठक का हुआ आयोजन ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |     पटना लांघाटोला से करपा जाने वाली रोड का कब होगा कायाकल्प ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |     शिशु मृत्यु दर मे कमी लाने समीक्षा बैठक हुई संपन्न ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |