# भारत में रिकार्ड ; एक ही दिन में मिले 26000 हजार से ज्यादा मामले ## भारत में कोरोना का कुल आकड़ा 822,603 # वहीँ 516,206 मरीज ठीक हुए,तो वहीँ 22,144 लोगों की हुई मौत # # भारत विश्व में कोरोना के चपेट में पंहुचा तीसरे नंबर पर ये बढ़ता आकड़ा, डराने वाला है # वही रिकवर मरीजों की संख्या भारत में बेहतर ##

Post 5

बाघ ने बनाया बैल एवम चरवाहे को अपना निवाला

Post 1

उमरिया 

उमरिया जिले के घुनघुटी रेंज अंतर्गत कचोदर बीट के कक्ष क्रमांक आर एफ 299 के बेड़ही डोगरी हार में टाइगर ने मवेशी लेकर गए ग्रामीण का किया शिकार । जिसमे अधेड़ की मौत हो गई।जानकारी के मुताबिक कल शाम मृतक मोहे लाल बैगा पिता मायाराम बैगा उम्र 50 वर्ष हमेशा की तरह मवेशी को चराने गया हुआ था।देर शाम गाव के अन्य मवेशी अपने घर लौट आये और मोहे लाल नही लौटा जिसको देख कर परिजन एवम गाव के कुछ लोग मोहेलाल की तलाश में निकल पड़े लेकिन देर हो जाने के कारण अंधेरा हो चुका था जिससे मोहेलाल का कही पता नही चला, थक हार कर परिजन घर लौट आये और दूसरे दिन सुबह फिर तलाश में जुट गए और उन्हें लगभग सुबह 8 बजे मोहेलाल का छत विक्षत शव मिला, जिसकी सूचना वन एवम पुलिश को दिया गया।
सुबह लगभग 10 बजे सूचना मिलते ही एस डी ओ वन राहुल मिश्रा, घुंनघुटी रेंजर एस के त्रिपाठी, पुलिश प्रसाशन से घुंनघुटी चौकी प्रभारी आर के गायकवाड़ पाली सहायक उप निरीक्षक मनीष कुमार,प्रधान आरक्षक संदीप शुक्ला,नरेन्द्र मार्को तुरंत मोके पर पहुच कर शव का पंचनामा कर शव को पी एम हेतु पाली भेजा गया जहां से पी एम उपरांत शव परिजनों के सुपुर्द किया गया।
एस डी ओ राहुल मिश्रा ने बताया की मृतक के परिजनों को क्रियाकर्म के लिए तत्काल 5000 रुपये आर्थिक सहायता राशि दी गई है। मृतक के नजदीकी परिजन को कुल 4 लाख रुपये की राशि 2 दिवस के भीतर दी जावेगी।
शव को एस डी ओ राहुल मिश्रा द्वारा अपनी गाड़ी में रखकर पी एम हेतु लाया गया उसके उपरांत शव को घर तक पहुचाया गया।एस डी ओ राहुल मिश्रा ने बताया की मृतक मवेशी चराने गया हुआ था।घटना को देखते हुए ये प्रतीत हो रहा है की टाइगर ने जब बैल के ऊपर हमला किया तब मोहेलाल भी वही पर था बैल पर हमला होता देख मोहेलाल ने बैल को बचाने का प्रयास किया होगा जिससे टाइगर ने मोहेलाल के ऊपर भी हमला कर दिया जिसकी वजह से यह दर्दनाक घटना हो गई। गौरतलब है कि यह कोई पहली घटना इस क्षेत्र में नही है, इसके पूर्व भी कई लोगों को बाघ अपना शिकार बना चुका है, वहीं लोगों का कहना है कि घुनघुटी रेंज से बांधवगढ़ टाइगर रिज़र्व की सीमा लगी होने के कारण और टाइगर रिजर्व कुप्रबंधन का शिकार होने के कारण बाघ वहां से भाग कर पड़ोसी रेंज के जंगलों में शरण लेते हैं और वहां पशुओं के साथ मनुष्यों को भी शिकार बनाते हैं।

Post 4
Post 2
Post 3

Leave A Reply

Your email address will not be published.

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- +919424776498

सचिव रोजगार सहायक और सरपंच की मिलीभगत से पंचायत का हुआ बंटाधार (अनिल दुबे की रिपोर्ट)     |     ग्राम पंचायत जीलंग सचिव, रोजगार सहायक हितग्राहियों से प्रधानमंत्री आवास का लाभ दिलाने के नाम पर कर रहे है अवैध वसूली -(पूरन चंदेल की रिपोर्ट- )     |     पट्टे की भूमि पर लगी धान की फसल में सरपंच/सचिव/रोजगार सहायक करा दिए वृक्षारोपण (पूरन चंदेल की रिपोर्ट)      |     ग्राम पंचायत किरगी के नाली निर्माण भ्रस्टाचार की फिर खुली पोल {मनीष अग्रवाल की रिपोर्ट}     |     ओवरलोडिंग से सड़कों की हो रही खस्ताहाल ट्रक ट्रेलर मोटर मालिक हो रहे मालामाल {वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की रिपोर्ट}     |     क्या यहाँ ? इंसान की जगह आवारा कुत्तो को किया जाता है भर्ती {पुष्पेन्द्र रजक की रिपोर्ट}     |     कमिश्नर को दिया आवेदन पत्र, दुकानदार के कहने पर की थी शिकायत (रमेश तिवारी की रिपोर्ट))     |     युवा अपनी ऊर्जा सकारात्मक कार्यों में लगाएँ, सोशल मीडिया का करें सदुपयोग- कलेक्टर     |     अनुपपुर जिले में आगामी रविवार को नही रहेगा पूर्ण लॉकडाउन (अनिल दुबे की रिपोर्ट)     |     धार्मिक स्थलों में ना करें सामूहिक पूजा- बिसाहूलाल सिंह (अनिल दुबे की रिपोर्ट)     |