# मुख्यमंत्री सीएम शिवराज सिंह का हुआ आगमन ##

Post 5

भ्रष्टाचार के नाले में उपयंत्री ने डुबोई लाखों की लुटिया ( आशुतोष सिंह की रिपोर्ट )

Post 1

मामला पड़रिया में बनाए जा रहे रपटा कम स्टाॅप डेम का

मापदण्डों को दर किनार कर उपयंत्री करा रहा कार्य

इन्ट्रोः- जनपद पंचायत पुष्पराजगढ़ की ग्राम पंचायत पड़रिया में वर्षों से ग्रामीणों की मांग के बाद लुटिया नाले पर लाखों की लागत से रपटा कम स्टाॅप डेम का निर्माण स्वीकृत हुआ, लेकिन उपयंत्री ने निर्माण कार्य के प्रारंभ में ही मापदण्डों को दरकिनार कर किए गए भ्रष्टाचार की लुटिया डुबोनी शुरु कर दी। बीते डेढ़ साल से निर्माण कार्य चल रहा है, लेकिन अब तक पूर्ण नहीं हुआ है। फिर भी जिम्मेदारों की आंखें उपयंत्री व ठेकेदार के कारनामें देखने के लिए नहीं खुल सकीं।

Post 2

पुष्पराजगढ़। सरकार की मंशा है कि रपटा कम स्टाॅप डेम का निर्माण कार्य ग्रामीणों को जहां सिंचाई के लिए पानी उपलब्ध कराया जा सके वहीं उनकी राह आसान की जा सके, लेकिन ग्रामीणों की इस मंशा पर तब पानी फिर जाता है जब उपयंत्री ठेकेदार के साथ मिलकर निर्माण कार्य मापदण्डों के विपरीत कर प्रारंभ से ही भ्रष्टाचार करने लगते हैं। ऐसा ही मामला जनपद पंचायत पुष्पराजगढ़ की ग्राम पंचायत पड़रिया में लुटिया नाले पर बनाए जा रहे रपटा कम स्टाॅप डेम के निर्माण में देखने को मिला। बीते डेढ़ साल से चल रहा निर्माण कार्य पूर्ण नहीं हो सका। वजह जो भी रही हो लेकिन इस बरसात में यदि निर्माण कार्य पूर्ण नहीं हुआ तो सारी मेहनत व लाखों की राशि पानी में बह जाएगी।

गुणवत्ता से परे निर्माण

पड़रिया ग्राम पंचायत के लुटिया नाले में लगभग 35 लाख की लागत से स्वीकृत हुए रपटा कम स्टाॅप डेम के निर्माण में उपयंत्री व ठेकेदार ने गुणवत्ता को कोसों दूर रखा है। बेस निर्माण में ही आसपास से बिनवाकर हैण्ड ब्रोकेन गिट्टी, बोल्डर लगाई जा रही है। वहीं नर्मदा की मिट्टी युक्त रेत का उपयोग किया जा रहा है। सरिया निश्चित माप की नहीं लगाई जा रही है जानकारों की माने तो रपटा का स्टाॅप डेम के बेस निर्माण में डाले जाने वाली सरिया लगाई ही नहीं गई, जबकि सतह पर ही सरिया की जाली बनाकर क्रेशर युक्त गिट्टी व स्वच्छ रेत के साथ सीमेन्ट का बेस डाला जाना चाहिए।

डूब जाएगी लाखों की लुटिया

लुटिया नाले पर अब तक लाखों रुपए का कार्य किया जा चुका है, लेकिन समय पर कार्य न हो पाने के कारण व अब तक किए गए भ्रष्टाचार की लुटिया बरसात में उपयंत्री व ठेकेदार डुबा देंगे। फिर जांच हुई भी तो भ्रष्टाचार सामने नहीं आ सकेगा। क्षेत्र के जिम्मेदार नागरिकों ने उपयंत्री व ठेकेदार के द्वारा निर्माण कार्य में किए जा रहे भ्रष्टाचार के संबंध में अधिकारियों को सूचित किया है लेकिन यहां सब चोर-चोर मौसेरे भाई दिखाई पड़ रहे हैं।

मजदूरी के लिए भटक रहे मजदूर

ग्राम पंचायत पड़रिया के लुटिया नाले पर बनाए जा रहे रपटा कम स्टाॅप डेम निर्माण में कार्य करने वाले मजदूरों ने बताया कि वह बीते एक साल से अपना पारिश्रमिक पाने के लिए ठेकेदार व उपयंत्री के चक्कर काट रहे है, लेकिन अब तक उन्हें पारिश्रमिक नहीं मिल सका है, जबकि कई बार उन्होंने विभाग के एसडीओ को बताया, फिर भी पारिश्रमिक कब मिलेगा पता नहीं, जिससे मजदूर परेशान है।

स्थल से नदारद है बोर्ड 

किसी भी शासकीय कार्य के निर्माण प्रारंभ होने व उसकी पूर्णता की जानकारी एवं कार्य का नाम और किस मद से स्वीकृत किया गया के साथ उसकी लागत और मजदूरों को दी जाने वाली मजदूरी की दर का बोर्ड निर्माण कार्य शुरु करने के पहले ही लगाया जाना अनिवार्य है। परन्तु लुटिया नाले पर लगभग 35 लाख की लागत से बनाए जा रहे रपटा कम स्टाॅप डेम के स्थल पर किसी प्रकार का बोर्ड न लगाए जाने पर ही उपयंत्री व ठेकेदार के द्वारा किए जाने वाले भ्रष्टाचार की नीयत साफ दिखाई पड़ती है।

फिर होगा लम्बा सफर

लुटिया नाला में बन रहे रपटा कम स्टाॅप डेम का निर्माण बारिश शुरु होने से पहले पूरा होता नहीं प्रतीत हो रहा है। ऐसे में ग्राम पंचायत पड़रिया का यह मार्ग बधित हो जाएगा। जिससे ग्रामीणों को लंबा सफर तय करना पड़ेगा। यदि बारिश के दिनों में ग्रामीण किसी गंभीर बीमारी के चपेट में आते हैं तब 108 जैसे वाहनों का गांव तक पहुंच पाना असंभव हो जाएगा और ग्रामीणों का सफर पहले से भी लंबा होगा।

नहीं मिल सकेगा पानी

बनाए जा रहे रपटा कम स्टाॅप डेम से ग्रामीणों को उम्मीद थी कि बरसात के बाद उन्हें फसल के लिए पानी मिल सकेगा, लेकिन चल रही निर्माण कार्य की कछुआ चाल से उनकी उम्मीदों पर पानी फिरता दिखाई दे रहा है। लगभग डेढ़ साल से जिस गति से कार्य किया जा रहा है उससे दिखाई पड़ रहा है कि अभी ग्रामीणों को डेढ़ साल और इसके पूर्ण होने का इंतजार करना पड़ेगा।

इनका कहना है

जानकारी मिलने पर हमारे द्वारा ठेकेदार को नोटिस दी गई थी प्रारंभ में नर्मदा की रेत का इस्तेमाल उसके द्वारा किया गया था उसके बाद नहीं किया गया। 15 जून तक बेस लेविल का निर्माण पूर्ण कर लिया जाएगा। यदि गुणवत्ता से परे निर्माण किया जा रहा है तो मैं उसे दिखवाता हूं। मजदूरों का भुगतान जल्द हो जाएगा।

शत्रुधन रावत
कार्यपालन यंत्री
ग्रामीण यांत्रिकी सेवा संभाग अनूपपुर

Post 4
Post 2
Post 3

Leave A Reply

Your email address will not be published.

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- +919424776498

फर्जी बिल लगाने के बादशाह निकले…….गुप्ता     |     सी.एम. हेल्पलाइन की लंबित शिकायतों का निराकरण ना करने वाले अफसरों का वेतन आहरण नहीं होगा@अनिल दुबे9424776498     |     प्रक्रिया का पालन करें पंचायतें, टेंडर से हो खरीदी फर्जी बिल पर लगेगा अंकुश…….यदुवंश दुबे ने व्यक्त किये अपने विचार@आसुतोष सिंह     |     बस वाहन चालक यात्रियों के जेब मे डाल रहे डाका ( वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से )     |     पशु चिकित्सालय के अस्तित्व पर खतरा ( वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से )     |     बिना कनेक्शन पहुंचा बिजली बिल, आश्रम को लगा करेंट का झटका (वरिस्ट पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से)     |     पुष्पराजगढ़ विधायक फुंदेलाल मार्को द्वारा दसवें उप स्वास्थ्य केंद्र भवन का किया भूमि पूजन ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |     जनपद पंचायत पुष्पराजगढ़ मे समीक्षा बैठक का हुआ आयोजन ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |     पटना लांघाटोला से करपा जाने वाली रोड का कब होगा कायाकल्प ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |     शिशु मृत्यु दर मे कमी लाने समीक्षा बैठक हुई संपन्न ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |