# मुख्यमंत्री सीएम शिवराज सिंह का हुआ आगमन ##

Post 5

अत्यधिक स्नान कराया तो भगवान जगन्नाथ पड़ गए बीमार

Post 1

रायपुर,

ज्येष्ठ पूर्णिमा पर राजधानी के सभी जगन्नाथ मंदिरों में भगवान जगन्नाथ, मैय्या सुभद्रा और भैय्या बलदाऊ की प्रतिमाओं को पवित्र नदियों के जल से स्नान करने की परंपरा निभाई गई। श्रृंगार करके दोपहर में महाआरती की गई। मान्यता है कि अत्यधिक स्नान करने से भगवान बीमार पड़ जाते हैं, इसलिए इस परंपरा का पालन करते हुए रात्रि में पुनः महाआरती करके मंदिर के पट 15 दिनों के लिए बंद कर दिए गए हैं। अब भक्तगण 15 दिनों तक भगवान के दर्शन नहीं कर सकेंगे। भगवान के बीमार रहने के दौरान औषधियुक्त काढ़ा पिलाने की रस्म निभाई जाएगी। मंदिरों में आषाढ़ अमावस्या यानि दो जुलाई से लेकर द्वितीया तक तीन दिवसीय महोत्सव धूमधाम से मनाया जाएगा। तीसरे दिन 4 जुलाई को भगवान रथ पर विराजित होकर नगर भ्रमण करने निकलेंगे।

टुरी हटरी का प्राचीन मंदिर

Post 2

टुरी हटरी स्थित ऐतिहासिक श्रीस्वामी जगन्नाथ मंदिर के महंत रामसुंदर दास के सानिध्य में पंडितों ने पवित्र नदियों के जल से तीनों भाई-बहन यानि जगन्नाथ, सुभद्रा और बलदेव की प्रतिमाओं (विग्रह) का विधिवत मंत्रोच्चार के साथ स्नान कराया। इसके पश्चात श्रृंगार और आरती की गई। इसमें पं रामनुजलाल उपाध्याय, प्रोफेसर व्ही.पार्थ सारथी राव, विजय पाली, पं कृष्णवल्लभ शर्मा, दाऊ महेन्द्र अग्रवाल, अरुण साहू, रामतीरथ दास, रामछवि दास, उमेशपुरी, रामेश्वर मिश्रा, कान्हा उपाध्याय, प्रकाश ठाकुर, पुजारी राम तिलक दास आदि शामिल थे।

गायत्री नगर में महाआरती में उमड़े

गायत्री नगर स्थित जगन्नाथ मंदिर के संस्थापक पुरंदर मिश्रा के सानिध्य में पंडितों ने सुबह 10 बजे भगवान के स्नान करने की परंपरा निभाई। दोपहर में श्रृंगार करके महाआरती की गई। रात्रि में पुनः महाआरती करके मंदिर के पट बंद कर दिए गए। महाआरती में काफी संख्या में भक्तगण शामिल हुए।

अनेक मंदिरों में छाया भक्तिभाव

सदरबाजार स्थित मंदिर के सर्वराकार ओमप्रकाश पुजारी के नेतृत्व में संपूर्ण पुजारी परिवार के सदस्य और भक्तगणों ने स्नान की परंपरा निभाई। इसके अलावा अश्विनी नगर, गुढ़ियारी, आमापारा, पुराना मंत्रालय, कोटा स्थित राम दरबार आदि मंदिरों में भी ज्येष्ठ पूर्णिमा पूजा पर भक्तिमय माहौल छाया रहा।

हालचाल जानने भक्त आएंगे मंदिर, नहीं कर सकेंगे दर्शन

गायत्री नगर मंदिर के संस्थापक पुरंदर मिश्रा ने बताया कि 15 दिनों तक बीमार अवधि में पट बंद रहने के दौरान भक्तगण भगवान का हालचाल पूछने मंदिर आएंगे। हालांकि, भगवान का दर्शन नहीं कर पाएंगे, लेकिन मुख्य द्वार पर मत्था टेककर मन्नत मांगेंगे। ऐसी मान्यता है कि भगवान की बीमार अवधि में जो भक्त मंदिर में आकर मत्था टेकते हैं उन पर भगवान की विशेष कृपा होती है।

काढ़े का प्रसाद लेने आएंगे भक्त

किसी मंदिर में पंचमी तो किसी में नवमी, एकादशी, अमावस्या तिथि पर भगवान को काढ़े का भोग लगाया जाएगा। ऐसी मान्यता है कि भगवान को लगाए गए काढ़े के भोग का प्रसाद ग्रहण करने से भक्तगण सालभर तक निरोगी रहते हैं। इस मान्यता के चलते मंदिरों में कई भक्त काढ़े का प्रसाद ग्रहण करने पहुंचेंगे।

नेत्रोत्सव के बाद नगर भ्रमण करेंगे भगवान

तीन दिवसीय उत्सव का शुभारंभ दो जुलाई को अमावस्या तिथि से होगा। इस दिन काढ़ा पिलाने की रस्म का समापन होगा। इसके पश्चात आषाढ़ शुक्ल प्रतिपदा तीन जुलाई को नेत्रोत्सव पर भगवान के नेत्रों का श्रृंगार किया जाएगा। आषाढ़ शुक्ल द्वितीया यानी चार जुलाई को भगवान जगन्नाथ अपनी बहन सुभद्रा और बड़े भैया बलदेव के साथ रथ पर सवार होकर नगर भ्रमण करने निकलेंगे।

 

Post 4
Post 2
Post 3

Leave A Reply

Your email address will not be published.

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- +919424776498

फर्जी बिल लगाने के बादशाह निकले…….गुप्ता     |     सी.एम. हेल्पलाइन की लंबित शिकायतों का निराकरण ना करने वाले अफसरों का वेतन आहरण नहीं होगा@अनिल दुबे9424776498     |     प्रक्रिया का पालन करें पंचायतें, टेंडर से हो खरीदी फर्जी बिल पर लगेगा अंकुश…….यदुवंश दुबे ने व्यक्त किये अपने विचार@आसुतोष सिंह     |     बस वाहन चालक यात्रियों के जेब मे डाल रहे डाका ( वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से )     |     पशु चिकित्सालय के अस्तित्व पर खतरा ( वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से )     |     बिना कनेक्शन पहुंचा बिजली बिल, आश्रम को लगा करेंट का झटका (वरिस्ट पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से)     |     पुष्पराजगढ़ विधायक फुंदेलाल मार्को द्वारा दसवें उप स्वास्थ्य केंद्र भवन का किया भूमि पूजन ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |     जनपद पंचायत पुष्पराजगढ़ मे समीक्षा बैठक का हुआ आयोजन ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |     पटना लांघाटोला से करपा जाने वाली रोड का कब होगा कायाकल्प ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |     शिशु मृत्यु दर मे कमी लाने समीक्षा बैठक हुई संपन्न ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |