भारी बारिश के कारण शनिवार को अमरनाथ यात्रा दोनों मार्गो पहलगाम और बालटाल से रोक दी गई है। अमरनाथ श्राइन बोर्ड के प्रवक्ता ने कहा कि मार्ग में फिसलन बढ़ने के कारण यात्रा स्थगित की गई है। पैदल मार्ग से किसी यात्री को नहीं जाने दिया गया। हालांकि कुछ यात्री हेलिकॉप्टर से पहुंचे हैं।

दक्षिण और मध्य कश्मीर में 27 जून से भारी बारिश के चलते बाढ़ की चेतावनी जारी की गई है। बालटाल और पहलगाम में सैकड़ों अमरनाथ यात्री फंसे हुए हैं। जम्मू-श्रीनगर मार्ग पर कई स्थानों पर भूस्खलन और पहाड़ों से पत्थर गिरने की घटनाएं हुई। हालांकि मार्ग को तुरंत साफ कर दिया गया। अमरनाथ यात्रा के लिए देश भर से करीब पांच हजार यात्री जम्मू पहुंचे हैं।

मध्य कश्मीर में बाढ़ की चेतावनी, स्कूल बंद रहे
कश्मीर में रुक-रुककर बारिश जारी रहने के बाद अधिकारियों ने शुक्रवार को कश्मीर में बाढ़ की चेतावनी जारी की थी। शनिवार को श्रीनगर सहित मध्य कश्मीर के निचले इलाकों में भी बाढ़ की चेतावनी जारी करते हुए लोगों को सतर्क रहने तथा निकास के लिए तैयार रहने को कहा गया है। खराब मौसम के चलते घाटी में शनिवार को स्कूल बंद रहे। अनंतनाग जिले के संगम में पानी का स्तर 21 फीट को पार कर गया जो बाढ़ का अलर्ट जारी करने का स्तर है।

वर्षाजन्य हादसों में तीन लोगों की मौत
जम्मू क्षेत्र में वर्षाजन्य हादसों में तीन लोगों की मौत हो गई और करीब एक दर्जन मकानों को क्षति पहुंची। अखनूर सेक्टर के खौर गांव में घर के पास बह रहे नाले में अचानक बाढ़ आने से हरबंस लाल (45) की मौत हो गई। किश्तवाड़ जिले के कलामसादेधर गांव में अस्थायी आवास में रह रही महिला जमीला की मौत हो गई। पुंछ जिले के सुरनकोट इलाके में 22 साल का युवक अंजार अहमद नाले की बाढ़ में बह गया।