# मुख्यमंत्री सीएम शिवराज सिंह का हुआ आगमन ##

Post 5

पवार बोले- तीसरा मोर्चा व्यवहारिक नहीं, शिवसेना ने कहा- BJP की भाषा बोल रहे ‘गुरुजी’

Post 1

एनसीपी प्रमुख शरद पवार

 

2019 के लोकसभा चुनाव से पहले भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ एकजुट हो रहे विपक्ष को बड़ा झटका लग सकता है. विपक्षी पार्टियों में सबसे बड़े नेताओं में से एक एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने महागठबंधन और तीसरे मोर्चे को लेकर बड़ा बयान दिया, उन्होंने कहा कि ये सब 2019 चुनाव से पहले व्यवहारिक नहीं लगता है. शरद पवार के बयान पर शिवसेना ने भी अपनी प्रतिक्रिया दी है, और विपक्षी पार्टियों को उनसे सावधान रहने की जरूरत है.

सोमवार को शिवसेना ने सामना में लिखा कि विरोधियों को शरद पवार से सावधान रहना होगा, क्योंकि बीजेपी शरद पवार की जुबानी अपनी भाषा बुलवा रही है. सामना में लिखा कि शरद पवार बोल रहे हैं कि तीसरा मोर्चा असंभव है यही बात बीजेपी भी करती है.

Post 2

सामना में लिखा है कि तो क्या शरद पवार (गुरुजी) की जुबानी बीजेपी (मोदी) कुछ कहना चाह रहे हैं. उन्होंने लिखा कि पवार जैसे नेता विरोध में हैं या भी नहीं ये देखना होगा. यानी अगर नेतृत्व उनके पास नहीं रहेगा तो तीसरा मोर्चा प्रैक्टिकल नहीं होगा.

लेख में लिखा गया है कि कांग्रेस और राहुल गांधी का क्या करें, जो इस चक्रव्यूह में अटके हैं. क्या राहुल गांधी का नेतृत्व स्वीकारा है, क्या पता राहुल गांधी को अलग रखकर शरद पवार भी सोच रहे हो, मोर्चा कैसे बनेगा. जो बीजेपी कहना चाहती है वह अपने विरोधियों से ही बुलवा रही है.

दरअसल, एक टीवी चैनल को इंटरव्यू देते हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री शरद पवार ने ये बड़ा बयान दिया. उन्होंने कहा कि तीसरा मोर्चा व्यवहारिक नहीं है, इसलिए क्रियान्वित नहीं हो पाएगा. उन्होंने ये भी कहा कि उनके कई साथी चाहते हैं कि महागठबंधन बनना चाहिए.

और क्या बोले पवार?

इंटरव्यू में पवार ने कहा कि आज के समय की जो स्थिति है वो बिल्कुल 1977 जैसी है. उस दौरान इंदिरा गांधी एक मजबूत इरादों वाली नेता थीं, आपातकाल के दौरान वहीं पीएम थीं. लेकिन तब विरोध में कोई बड़ा दल नहीं था, जनता ने ही उनके खिलाफ वोट कर दिया और कांग्रेस हार गई.

बता दें कि पिछले कुछ दिनों में 2019 चुनाव को देखते हुए महागठबंधन और तीसरे मोर्चे की सुगबुगाहट तेज हुई है. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, तेलंगाना के मुख्यमंत्री चंद्रशेखर राव, केरल के मुख्यमंत्री विजयन पिनरई और आंध्र प्रदेश के सीएम चंद्रबाबू नायडू समेत कई ऐसे नेता हैं जो तीसरे मोर्चे की अगुवाई कर रहे हैं. लेकिन इससे इतर कांग्रेस भी अपने नेतृत्व में विपक्ष को एकजुट करना चाहती है और एक महागठबंधन तैयार करना चाह रही है

Post 4
Post 2
Post 3

Leave A Reply

Your email address will not be published.

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- +919424776498

फर्जी बिल लगाने के बादशाह निकले…….गुप्ता     |     सी.एम. हेल्पलाइन की लंबित शिकायतों का निराकरण ना करने वाले अफसरों का वेतन आहरण नहीं होगा@अनिल दुबे9424776498     |     प्रक्रिया का पालन करें पंचायतें, टेंडर से हो खरीदी फर्जी बिल पर लगेगा अंकुश…….यदुवंश दुबे ने व्यक्त किये अपने विचार@आसुतोष सिंह     |     बस वाहन चालक यात्रियों के जेब मे डाल रहे डाका ( वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से )     |     पशु चिकित्सालय के अस्तित्व पर खतरा ( वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से )     |     बिना कनेक्शन पहुंचा बिजली बिल, आश्रम को लगा करेंट का झटका (वरिस्ट पत्रकार यदुवंश दुबे की कलम से)     |     पुष्पराजगढ़ विधायक फुंदेलाल मार्को द्वारा दसवें उप स्वास्थ्य केंद्र भवन का किया भूमि पूजन ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |     जनपद पंचायत पुष्पराजगढ़ मे समीक्षा बैठक का हुआ आयोजन ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |     पटना लांघाटोला से करपा जाने वाली रोड का कब होगा कायाकल्प ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |     शिशु मृत्यु दर मे कमी लाने समीक्षा बैठक हुई संपन्न ( अनिल दुबे की रिपोर्ट )     |