# मुख्यमंत्री सीएम शिवराज सिंह का हुआ आगमन ##

Post 5

दिल्ली के बुराड़ी में 11 मौतों का जिम्मेदार है यह ‘शख्स’, जल्द हो सकता है खुलासा

Post 1

दिल्ली के बुराड़ी में 11 मौतों का जिम्मेदार है यह 'शख्स', जल्द हो सकता है खुलासा

 

बुराड़ी इलाके में एक ही परिवार के 11 लोगों की मौत की गुत्थी अब तक नहीं सुलझी है। सूत्रों के मुताबिक, इस मामले में कई सनसनीखेज जानकरियां सामने आई हैं।

नई दिल्ली : दिल्ली के बुराड़ी इलाके में एक ही परिवार के 11 लोगों की मौत की गुत्थी अब तक नहीं सुलझी है। वहीं, पुलिस ने आशंका जताई है कि इन 11 लोगों को खुदकुशी के लिए किसी शख्स ने उकसाया है। सूत्रों के मुताबिक, पुलिस यह भी संदेह जता रही है कि इन 11 लोगों ने किसी तांत्रिक या बाबा के कहने पर ही इतना खौफनाक कदम उठाया होगा। इस तरह के मामलों में किसी तांत्रिक की भूमिका पायी जाती है।

Post 2

उधर, दिल्ली पुलिस से जुड़े सूत्रों के मुताबिक, इस मामले में कई सनसनीखेज जानकरियां सामने आई हैं। बताया जा रहा है कि जहां 10 लोगों के शव लटके हुए मिले उसके पास ही एक कमरे से पुलिस ने 2 रजिस्टर बरामद किए हैं। दोनों रजिस्टरों में कई पेज भरे हुए हैं तो कुछ खाली हैं। ये पन्ने हाथ से लिखे गए हैं। खुदकुशी और हत्या में उलझी दिल्ली पुलिस को पूरे मामले से पर्दा हटाने के लिए कड़ी मशक्कत करनी पड़ेगी। सोमवार को पुलिस ने बताया कि 11 शवों को पोस्ट मार्टम किया गया, जिसमें खुलासा हुआ है कि छह लोगों की मौत फांसी लगाने से हुई है। जेसीपी क्राइम ब्रांच के मुताबिक, फांसी लगने से इनकी मौत हुई, इनका गला नहीं घोंटा गया था। यह छह लोग भवनेश, प्रतिभा, ध्रुव, शिवम, टीना और ललित हैं। यह भी पता चला है कि नारायण देवी का गला तो घोंटा गया, लेकिन मौत उनकी भी फांसी लगने से ही हुई। अब तक आठ लोगों की फांसी लगने से मौत की पुष्टि हो चुकी है।

इन 11 सवालों के जवाब तलाशने होंगे पुलिस को
1. बुराड़ी के एक घर में ग्रिल से लटके हुए नौ शवों को लेकर सभी के दिमाग में पहला सवाल यही है कि यह कैसे संभव हुआ होगा।

2. आखिर कैसे संभव है कि एक ही परिवार के 11 लोगों ने फांसी लगाकर खुदकशी कर ली। दिल्ली पुलिस की जांच टीम व फोरेंसिक टीम की पूरी जांच इसी गुत्थी को सुलझाने पर टिकी है।

3. फोरेंसिक टीम ने मौके पर शवों का हर एंगिल से न सिर्फ माप लिया, बल्कि फोटोग्राफी भी कराई।

4.टीम ने जांच के दौरान बारीकी से देखा कि एक शव से दूसरे शव के बीच की दूरी कितनी थी?

5. शवों के पैर जमीन से कितने ऊपर थे? हाथों को कैसे बांधा गया था?

6. इतना ही नहीं, अगर घटना खुदकशी की है तो क्या एक साथ नौ लोग इस तरह से खुदकशी कर सकते हैं या नहीं?

7. बरामदे में मिले 10 शवों में से दो के हाथ खुले मिले हैं, जबकि आठ के हाथ बंधे मिले। इस पहलू पर भी टीम जांच कर रही है। इसके भी सवाल तलाशने होंगे कि ऐसा ही क्यों किया गया।

8. माप के साथ ही टीम ने अलग-अलग एंगिल से पूरे क्राइम सीन की फोटोग्राफी कराई, ताकि हर पहलू की जांच की जा सके।

9. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में यह साफ हो सकेगा कि क्या सभी मृतकों की मौत एक ही समय पर हुई है या फिर अलग-अलग। एक-दूसरे की मौत के समय में कितना अंतर है।

10. जैसा कि बताया जा रहा है कि मोक्ष पाने के लिए सबने खुदकुशी की, ऐसे में यह भी पता लगाना होगा कि कौन इनके मोक्ष के लिए प्रेरित कर रहा था।

11. परिवार आसपास के लोगों और पड़ोसियों के साथ घुलमिलकर रहता था, ऐसे में किसी न किसी से परिवार के किसी सदस्यता की घनिष्ठता जरूर होगी। पुलिस को उस घनिष्ठ महिला-पुरुष की पहचान कर सच का पता चलाना होगा।

हर पहलू को जांचकर निष्कर्ष पर पहुंचेगी टीम
दिल्ली पुलिस की जांच टीम व फोरेंसिक टीम सभी पहलुओं का आकलन करने के बाद अपनी रिपोर्ट देगी। फोरेंसिक टीम एक क्राइम सीन रिक्रिएट करके भी देखेगी कि जो माप उन्होंने लिया है उसके हिसाब से क्या एक ग्रिल पर नौ लोग एक साथ खुदकशी कर सकते हैं।

खौफनाक दृश्य देखकर कांपी विशेषज्ञों की रूह
दिल्ली पुलिस व फोरेंसिक लैब की टीम को घर के अंदर दाखिल होने से पहले तनिक भी आभास नहीं था कि वह अगले ही पल किसी खौफनाक दृश्य को देखने जा रही है। बरामदे में लटके हुए नौ शवों को देखकर पुलिस व फोरेंसिक टीम की रूह कांप गई। नौ शवों के बीच रहकर साक्ष्यों को जुटाना टीम के लिए कतई आसान नहीं था। करीब चार घंटे तक मौके पर एक-एक शव का परीक्षण कर साक्ष्य जुटाने में फोरेंसिक टीम कर्मियों व अधिकारियों के पसीने छूट गए।

यहां बता दें कि बुराड़ी के एक घर में 11 लाशें मिलने के बाद इस पूरे मामले को आत्‍महत्‍या से जोड़कर देखा जा रहा है और इसके घर से जो दो रजिस्‍टर मिले उसमें लिखा है। जितनी दृढ़ता और श्रद्धा दिखाओगे उतना ही उचित फल मिलेगा। इस रजिस्‍टर में लिखा है रात्रि के 12 से 1 के बीच क्रियाएं करनी हैं उसके पहले हवन करना है।

यह भी पढ़ेंः मोक्ष की चाहत में परिवार के 11 लोगों ने मौत को लगाया गले, घर में होते थे रहस्यमय ‘काम’

Post 4
Post 2
Post 3

Leave A Reply

Your email address will not be published.

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- +919424776498

जिले की बड़ी खबर: सम्मान की जगह…कोरोना योद्धाओं को बाहर करने की तैयारी     |     सचिव रोजगार सहायक और सरपंच की मिलीभगत से पंचायत का हुआ बंटाधार (अनिल दुबे की रिपोर्ट)     |     ग्राम पंचायत जीलंग सचिव, रोजगार सहायक हितग्राहियों से प्रधानमंत्री आवास का लाभ दिलाने के नाम पर कर रहे है अवैध वसूली -(पूरन चंदेल की रिपोर्ट- )     |     पट्टे की भूमि पर लगी धान की फसल में सरपंच/सचिव/रोजगार सहायक करा दिए वृक्षारोपण (पूरन चंदेल की रिपोर्ट)      |     ग्राम पंचायत किरगी के नाली निर्माण भ्रस्टाचार की फिर खुली पोल {मनीष अग्रवाल की रिपोर्ट}     |     ओवरलोडिंग से सड़कों की हो रही खस्ताहाल ट्रक ट्रेलर मोटर मालिक हो रहे मालामाल {वरिष्ठ पत्रकार यदुवंश दुबे की रिपोर्ट}     |     क्या यहाँ ? इंसान की जगह आवारा कुत्तो को किया जाता है भर्ती {पुष्पेन्द्र रजक की रिपोर्ट}     |     कमिश्नर को दिया आवेदन पत्र, दुकानदार के कहने पर की थी शिकायत (रमेश तिवारी की रिपोर्ट))     |     युवा अपनी ऊर्जा सकारात्मक कार्यों में लगाएँ, सोशल मीडिया का करें सदुपयोग- कलेक्टर     |     अनुपपुर जिले में आगामी रविवार को नही रहेगा पूर्ण लॉकडाउन (अनिल दुबे की रिपोर्ट)     |